हरियाणा में सीएम पद के लिए जोड़-तोड़ शुरू

हिसार(प्रैसवार्ता)। हरियाणा में मतदान उपरांत सर्वेक्षणों और विधानसभा क्षेत्रों से मिली फीड बैक से उत्साहित भाजपा में सीएम पद के लिए जोड़-तोड़ शुरू हो गई है और भाजपाई शीर्ष के नेेतृत्व में मंथन शुरू होगा। कौन होगा मुख्यमंत्री, इसके लिए न सिर्फ क्यास लगाए जाए जा रहे है, बल्कि स्टोरियों ने सट्टेबाजी भी शुरू कर दी है। मुख्यमंत्री पद की दौड़ में कैप्टन अभिमन्यु, राम बिलास शर्मा, राव इंद्रजीत और मनोहर लाल खट्टर है। ''प्रैसवार्ता" को एक वरिष्ठ भाजपाई दिग्गज ने बताया कि यदि भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिलता है या भाजपा सरकार बनाने जा रही है, तो पार्टी हरियाणा में जाट और गैर जाट के बीच सामंजस्य बिठाकर चलेगी। हरियाणा में गैर जाटों की अनदेखी कर मंत्रीमंडल और मुख्यमंत्री का चुनाव नहीं किया जाएगा, ऐसी संभावना है। ऐसी स्थिति में भाजपा में कैप्टन अभिमन्यु पर विचार होगा, जबकि अहीरवाल के 22 विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा एक दर्जन से ज्यादा क्षेत्रों में जीत मानकर चल रही है, जिसके लिए राव इंद्रजीत यादव को श्रेय मिल सकता है। भाजपा के एक वर्ग की सोच है कि कांग्रेस को करारी शिकस्त देने उपरांत इनैलो में सेंधमारी के लिए जाट चेहरे को मुख्यमंत्री पद पर बिठाना होगा। भाजप का असली वोट बैंक दक्षिणी और उत्तरी हरियाणा में है, जहां से मनोहर लाल खट्टर के नाम पर सहमति बन सकती है। संघ की अनुमति के बगैर हरियाणा में भाजपा किसी भी चेहरे पर मोहर नहीं लगाएगी, ऐसी चर्चाएं है। राव इंद्रजीत ने करीब 6 मास पूर्व ही भाजपाई ध्वज उठाया है, जबकि सुषमा स्वराज हरियाणवी राजनीति में आने से इंकार कर चुकी है। मुख्यमंत्री बनने के लिए कैप्टन अभिमन्यु तथा मनोहर लाल खट्टर के वकीलों ने संघ की अदालत में वकालत शुरू कर दी है। संघ किस नाम पर सहमति प्रकट करता है, यह तो आने वाला समय ही बताएगा, मगर हरियाणा गठन से ही अपने दम पर सरकार बनाने का ख्वाब देख रहे भाजपाई दिग्गजों में भाग्य के खुलने की उम्मीदें बन गई है।

No comments