पंजाब में भाजपा का मिशन 2017 शुरू : अकाली दल में होगी सेंधमारी

सिरसा(प्रैसवार्ता)। हरियाणा विधानसभा चुनाव में भाजपा की सहयोगी शिरोमणी अकाली दल (बादल) की भाजपा विरोधी जनसभाओं से खफा भाजपा ने अकाली दल को राजनीतिक झटका देने के लिए मिशन-पंजाब 2017 पर अमली जामा पहनाने का काम शुरू कर दिया है। हरियाणा में भाजपा को सत्ता तक पहुंचाने के लिए डेरा सच्चा सौदा की अहम् भूमिका रही है। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख संत गुरमीत राम रहीम सिंह का अकाली दल से छत्तीस का आंकड़ा है और पिछले 8 वर्ष से उन्होंने पंजाब में जाने से दूरी बनाई हुई है। डेरा मुखी भाजपा की बैसाखी के सहारे पंजाब में दस्तक देना चाहते है और  भाजपा भी  डेरामुखी की मदद से पंजाब में अकाली दल को हरियाणा में भाजपाई विरोध का सबक सिखाना चाहती है। भाजपाई दिग्गज, जहां अकाली दल की सरकार को आड़े हाथों ले रहे हैं, वहीं भाजपा ने संघ की मदद से अकाली दल के वोट बैंक में सेंधमारी शुरू कर दी है। पंजाब में गठित नए युनाईटिड अकाली दल को इस कडी में देखा जा रहा है, हालांकि नवगठित युनाईटिड अकाली दल ने राजनीति में गंदगी को साफ करना उद्देश्य बताया है। यूनाईटिड अकाली दल में जुड़े ज्यादातर राजसी दिग्गज शिरोमणी अकाली दल से संबंधित रहे है। इन राजसी दिग्गजों ने पंजाब की मौजूदा स्थिति के बादल सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि कमजोर और दिशाहीन हो चुकी परिवारवाद की राजनीति से पंजाब दिन-प्रतिदिन पिछड़ रहा है। भाजपा ने अकाली दल से चल रही आंख मिचौली के चलते बादल का विकल्प ढूंढना शुरू कर दिया है।  भाजपा ने अकाली दल से खफा तथा विरोधी राजसी दिग्गजों से भाजपाई का जनसंपर्क अभियान शुरू  हो चुका है और उन्हें बादल एंड कंपनी के राजनीतिक पर कुतरने के लिए कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है, पर मंथन शुरू किया जाने लगा है। सिख मतदाताओं से संपर्क बढ़ाने के लिए भाजपा तथा संघ ने सक्रियता बढ़ा दी है। सूत्रों के मुताबिक पंजाब की मौजूदा राजनीतिक तस्वीर में शिरोमणी अकाली दल के ग्राफ में दिख रही गिरावट से भाजपा को उम्मीद है कि वे मोदी लहर के झूले में झूलकर विजयी परचम लहरा सकती है। शिरोमणी अकाली दल ने पंजाब मिशन 2017 से निपटन के प्रयास शुरू कर दिए है। श्री अकाली तख्त साहिब सचिवालय से 17 मई 2007 को जारी हुकमनामा में हुई तबदीली को राजनीतिक कार्ड के रूप में देखा जा रहा है। श्री अकाल तख्त साहिब द्वारा जारी आदेश के दूसरे पैराग्राफ में पंजाब, हरियाणा, व केंद्र सरकार को तोडऩा का उल्लेख था, मगर शिरोमणी गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के विद्वान लेखक सचिव के रूप में पहचान रखने वाले स. रूप सिंह द्वारा नव संपादित पुस्तक हुकमनामे आदेश, संदेश श्री अकाल तख्त साहिब के पृष्ठ नम्बर 256 पर प्रकाशित है, जिसमें बड़ी चतुराई से इस हुकमनामे में मात्र किसी प्रकार का धार्मिक, सामाजिक, भाईचारक या राजसी संबंध न रखने को कहा गया है। स. रूप सिंह कहते है कि उन्होंने जिसका जिक्र किया है, वह उन्हें श्री अकाल तख्त साहिब के सचिवालय से प्राप्त हुआ है। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के विरूद्ध जारी 17 मई 2007 के अहम् हुकम में तबदीली संकेत देती है कि अकाली दल डेरामुखी के प्रति नर्म हो गया है, ताकि पंजाब में डेरा के श्रद्धालु भी उनके प्रति नर्म रूख बनाए रखें। पंजाब में भाजपा का अकाली वोट बैंक में सेंधमारी के प्रयास तथा अकाली दल द्वारा बचाव के प्रयासों की तीव्रता ने राज्य की राजनीति में उथल-पुथल मचा दी है। 

No comments