चार महीने से एक परिवार अपने बेटे का शव पुलिस से लेने के लिए दर-दर की खा रहा ठोकरें - The Pressvarta Trust

Breaking

Wednesday, November 5, 2014

चार महीने से एक परिवार अपने बेटे का शव पुलिस से लेने के लिए दर-दर की खा रहा ठोकरें

अमृतसर(बिक्रम गिल)। अमृतसर के अजनाला कस्बे के गांव चमियारी में चार महीने पहले हुए ऑनर किलिंग के चलते लड़की वालों द्वारा लड़की से फोन करवा कर लड़के को बुला कर उसकी हत्या कर शव को खुर्द-पुर्द कर देने के मामले में पुलिस द्वारा अभी तक कारवाई को लेकर सिर्फ एक आरोपी पर मामला दर्ज कर खानापूर्ति की गई है , लेकिन अभी तक उसे भी गिरफ्तार नहीं किया गया है। उधर मृतक लड़के का शव की हड्डियां चार महीने से अजनाला के मुर्दाघर में पड़ी संस्कार का इन्तजार कर रही हैं।  उधर पीडि़त परिवार को कोई इन्साफ नहीं मिल सका है। पीडि़त परिवार द्वारा पुलिस से इन्साफ न मिलने के चलते राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के समक्ष पेश होकर अपना दुखड़ा सुनाया थ, जिस पर आयोग ने अमृतसर देहाती पुलिस के उच्च अधिकारियों को तलब किया था। इस मामले में पीडि़त परिवार को आयोग ने अपने बेटे की अस्थियां लेकर उसका संस्कार करने के लिए कहा है और आई जी बॉर्डर रेंज को निर्देश दिए कि इस मामले में एसआईटी बनाई जाये और 15 दिन के अंदर अंदर आयोग को रिपोर्ट सौंपी जाये। 

ये है मामला:-
यह है अमृतसर के अजनाला कसबे के लोहारका कलां का रहने वाला मृतक जुगराज सिंह । मृतक जुगराज सिंह का आरोपी बलदेव सिंह की बेटी के साथ प्रेम प्रसंग चल रहा था तथा इस दौरान दोनों प्रेमियों में नाजायज संबंध बन गये। लड़की के घर वालों ने एक दिन दोनों को आपतिजनक स्थिति में देख लिया। लड़की के घर वालों ने लड़के जुगराज सिंह को अपनी लड़की से फोन कर बुलवाया तथा उसे मार कर उसका शव गटर में फैंक दिया। मृतक जुगराज सिंह के घर वालों ने बेटे का घर न लौटने पर उसकी तलाश शुरू कर दी लेकिन वो नहीं मिला। दरअसल घटना वाले दिन 16 वर्षीय मृतक जुगराज सिंह अजनाला के नजदीक गावं गुज्जापीर में काम करता था और 25 जुलाई को घर से काम पर गया था और उस दिन उसे पगार मिलनी थी , पर उस दिन से वो घर वापिस नहीं आया। इसके बाद उसकी लाश गावं चमियारी में मिली। मृतक के घर वालों के मुताबिक लड़की ने अपने घर वालों के साथ मिलकर फोन कर जुगराज को बुलाया था और उसकी बड़ी बेरहमी से हत्या कर दी और शव को गटर में फैंक दिया। मृतक के घरवालों के मुताबिक पुलिस ने आरोपी किरणजोत कौर, बलदेव सिंह, तथा कुछ अन्य अपरिचित लोगों के खिलाफ एफ आई आर नंबर 166 में धारा 302, 201, 34 के तहत मामला दर्ज किया था, लेकिन बाद में सिर्फ एक ही आदमी पर मामला बना कर बाकि सभी को इस मामले से निकाल दिया।  पीडि़त परिवार का कहना है कि मृतक जुगराज का शव आधा मिला है और उसको जिस दर्दनाक तरीके से मारा गया था वो एक आदमी का काम नहीं है। इसमें और भी कई लोग मौजूद है। इसके अलावा पीडित परिवार का आरोप है कि मृतक की लाश पुलिस ने पोस्टमार्टम कराने के बाद वापिस नहीं दी। उन्होंने आयोग से मांग की कि उन्हें इन्साफ दिलाया जाये।

ये कहना है पुलिस का:-
उधर इस मामले में जब पुलिस से बात की गई तो उन्होंने इस मामले की जानकरी देते हुए बताया कि आरोपियों ने दोनों को आपत्तिजनक हालत में देख लिया था जिसके बाद जुगराज की हत्या कर दी गई। पुलिस ने थाना अजनाला के अंतर्गत आते गावं चमियारी में लोहारका कलां के रहने वाले जुगराज सिंह की गली सड़ी लाश बरामद की थी। एस पी हेडक्वार्टर बलजीत सिंह ने आयोग के समक्ष तफ्तीश रिपोर्ट पेश की। एस पी ने बताया कि  मृतक जुगराज सिंह का आरोपी बलदेव सिंह की बेटी के साथ अवैध सम्बन्ध थे। उक्त रात बलदेव को जुगराज के बारे पता चला और बलदेव ने जुगराज की हत्या की है . बलदेव ने उसके शव को ड्रेन में फैंक दिया था। एस पी के मुताबिक जुगराज के कत्ल में सिर्फ  बलदेव का हाथ था बाकी कोई भी शामिल नहीं था और बलदेव को गिरफ्तार कर लिया गया है। एस पी ने बताया कि लाश को डी एन ए टेस्ट कराने के लिए भेजा गया है।


No comments:

Post a Comment

Pages