सिरसा में एएसआई ने की आत्महत्या

सिरसा(प्रैसवार्ता)।जिले के एएसआई ने  मंगलवार तड़के सुबह संदिग्ध अवस्था में गोली मारकर आत्महत्या कर ली है। इसका कारण मानसिक दवाब बताया जा रहा है। फिलहाल पुलिस जांच में जुटी हुई है। पोस्टमार्टम के लिए शव सामान्य अस्पताल ले जाया गया है। प्रैसवार्ता को मिली जानकारी के अनुसार एएसआई बीर सिंह हिसार जिले के मोहबतपुर ढाणी का रहने वाला था। लगभग 2 सालों से सिरसा सिटी थाना के नजदीक मालखाना में बतौर इंचार्ज कार्यरत था। सुबह करीब पांच बजे के करीब उसने देशी कट्टा से दाये तरफ कमर से कुछ ऊपर पेट में गोली मार ली। जानकारों के मुताबिक गोली काफी नजदीक से मारी गई है। हो सकता है कि देशी कट्टा पूरी तरह पेट में सटाकर मारी गई हो। इसकी जानकारी सुबह करीब 9 बजे पुलिस कर्मचारियों को मिली। जानकारी मिलने के बाद सूचना आग की तरह चारों तरह फैल गई। सभी पुलिस कर्मचारी व उसने सहयोग सन्न रह गए। जिसके बाद मौके पर डीएसपी धर्मवीर मौके पर पहुंचे और उन्होंने जांच शुरू कर दी।
एक गाड़ी का चेस्सीस नंबर नहीं मिल रहा था
मौके पर मौजूद मृतक एएसआई के साथी ने बताया कि बुधवार को बीर सिंह को आईजी कार्यालय हिसार में बुलाया गया था। साथ ही मालखाना के पूरी रिपोर्ट साथ लाने को कहा गया था। उनके साथी ने बताया कि रिपोर्ट तैयार करते समय एक गाड़ी का चेस्सीस नंबर नहीं मिल रहा था। सोमवार रात को बीर सिंह ने अपने साथी का बताया कि इस कारण परेशानी होगी। वह फांसी लगा लेगा। इस बारे में उसके साथी ने समझाया भी था कि फांसी लगाने से समस्या का हल नहीं होगा।
रात को ही शस्त्रखाना से निकाला गया था हथियार
बीर सिंह ने जिस हथियार से अपने आप को मौत के घाट उतारा है वह देशी कट्टा है और शस्त्र खाना में जमा था। बताया जा रहा है कि सिटी थाना में स्थित शस्त्रखाना का इंचार्ज भी बीर सिंह ही था। रात को सोमवार रात करीब 9 बजे बीर सिंह ने शस्त्रखाना से देशी कट्टा को निकाल लिया था और उसे लेकर मालखाना पहुंचा था।
काम की अधिकता एक वजह 
बताया जा रहा है कि बीर सिंह पर काफी समय से काम की अधिकता थी। कर्मचारियों की कमी से मालखाना जूझ रहा है। उसने साथी के मुताबिक बीर सिंह कुछ समय से अवकाश की मांग कर रहा था। लेकिन काम की अधिकता होने की वजह से अवकाश नहीं मिल रहा था। इसके चलते वह कुछ दिनों से काफी मानसिक रूप से परेशान था।
सुबह चार बजे चाय पी थी
               मंगलवार सुबह करीब चार बजे एएसआई बीर सिंह जाग गया था। बताया जा रहा है कि वह सुबह चार बजे अपने साथी के साथ चाय पी थी। जिसके बाद उसका साथी सोने के लिए चला गया। क्योंकि बीर सिंह को आईजी कार्यालय हिसार जाना था।
मालखाना के पिछले हिस्से में जाकर मारी गाली
बीर सिंह मालखाना के दरवाजे के पास बने हुए कमरे में सोता था। सुबह करीब पांच बजे वह मालखाना के पिछले हिस्से में चला गया। पुलिस के मुताबिक जहां पर उसने गोली मार ली। डीएसपी धर्मवीर ने बताया कि बीर सिंह ने खुद को गोली मार ली है। इस मामले में परिजन के बयान पर इत्तेफाकिया मामला दर्ज किया गया है।
नहीं मांगी थी छुट्टी
डीएसपी धर्मवीर ने बताया कि मृतक बीर सिंह ने अवकाश के लिए उनके पास कोई अर्जी नहीं दी थी और न ही इस मामले में उनके पास किसी प्रकार की कोई जानकारी है। अवकाश न देने का कोई मामला नहीं है।

No comments