दुल्हनों के व्यापार में अहम् भमिकाएं निभा रही है महिलाएं

सिरसा(प्रैसवार्ता)। हरियाणा में गिरते लिंगानुपात के चलते मोल की दुल्हनों का धंधा तेजी पकड़ रहा है, जिसमें महिलाएं भी सक्रिय भूमिका निभा रही है। प्रैसवार्ता को मिली जानकारी के अनुसार हरियाणा की अतिरिक्त उत्तर पश्चिम भारत में ऐसे एजेंट्स और ब्रोकर्स का आंकड़ा निरंतर बढ़ रहा है, जो दुल्हनों का व्यापार कर रहा है। हरियाणा में लिंगानुपात का बढ़ता अंतर और प्रति परिवार को खेती लायक भूमि में आ रही कमी इस क्षेत्र के युवाओं को रिश्ते ढूंढने मुश्किलें हो गई है और उन्हें मजबूर होकर मोल की दुल्हनों के लिए एजेंट्स की मदद लेनी पड़ती है। हरियाणा में रोजगार में कम साधनों के चलते रिश्ते कम होते है। शायद यहीं कारण रहा होगा कि भाजपाई दिग्गज और मौजूदा कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने विधानसभा चुनाव दौरान कहा था कि वह युवाओं के लिए बिहार से दुल्हन लाएंगे। पिछले एक दशक से हरियाणा के रोहतक, सोनीपत व झज्जर में खरीदी गई महिलाएं कम आईं, जबकि जींद, कैथल व अन्य जिलों में पश्चिमी बंगाल, बिहार, मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ से मोल की दुल्हनों का आंकड़ा काफी बढ़ गया था। मोल की दुल्हनों के लिए बकायदा एजेंट्स पूरे प्रदेश में घूमते रहते है, जो जरूरतमंदों को दुल्हन उपलब्ध करवा देते है। सूत्रों के अनुसार खरीददार भी एजेंट्स को प्राथमिकता देते है, क्योंकि वह सभी कानूनी  पहलुओं का ध्यान रखते है।

No comments