तंवर को प्रवासी पक्ष कहने पर पत्रकार वार्ता में बोले नवीन केडिया: कांग्रेस हाईकमान रणजीत सिंह को पार्टी से करे निष्काषित

सिरसा(प्रैसवार्ता)। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष एवं सिरसा लोकसभा से पूर्व सांसद डॉ. अशोक तंवर के लिए पूर्व राज्यसभा सांसद रणजीत सिंह द्वारा की गई प्रतिकूल टिप्पणी से क्षुब्ध कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने रविवार को बरनाला रोड स्थित पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस के बाहर जमकर नारेबाजी की और प्रदर्शन करते हुए रणजीत सिंह का पुतला फूंका। इसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नवीन केडिया ने कुछ स्थानीय नेताओंं द्वारा कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर को प्रवासी पक्षी बताने की कड़े शब्दों में निंदा की है। अपने रोड़ी बाजार स्थित कार्यालय में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए नवीन केडिया ने कहा कि अशोक तंवर को सिरसा लोकसभा का चुनाव लडऩे के लिए श्रीमती सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने उतारा था। ऐसे में उन्हें प्रवासी पक्षी कहना कांग्रेस हाईकमान की तौहीन है जिसके लिए उक्त नेताओं को सार्वजनिक तौर पर माफी मांगनी चाहिए। नवीन केडिया ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने चौ. रणजीत सिंह जैसे नेता पर बार-बार भरोसा करके उन्हें चुनाव मैदान में उतारा लेकिन वे कभी पार्टी की कसौटी पर खरे नहीं उतरे। पार्टी ने उन्हें चुनाव हारने के बावजूद योजना बोर्ड का उपाध्यक्ष बनाया लेकिन वे पार्टी के लिए कभी विश्वासपात्र नहीं रहे और पार्टी हाईकमान को भी यह याद होना चाहिए कि रणजीत सिंह पार्टी छोड़कर भाजपा के स्टार प्रचारक के तौर पर भी काम कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि कभी आदमपुर, कभी रोड़ी, रानियां और कभी हिसार से चुनाव लड़कर पराजित रहने वाले रणजीत सिंह कैसे किसी अन्य नेता को प्रवासी पक्षी कह सकते हैं जबकि उनका खुद का कोई भरोसा नहीं कि वे कब किस पार्टी का दामन थाम लें। लगातार चुनाव हारने का विश्व रिकॉर्ड उनके नाम होना चाहिए। उनकी लोकप्रियता का अंदाजा तो इसी बात से लगाया जा सकता है कि रानियां विधानसभा के चुनावों में वे पहली बार चुनाव लड़े व्यक्ति से भी पिछड़ गए। वे जिन लोगों को अपने साथ होने की बात कहकर हाईकमान को प्रभावित करने की कोशिश हर रैली में करते हैं, वे प्रायोजित लोग होते हैं। रणजीत सिंह कांग्रेस का लोकदलीकरण करना चाहते हैं। रणजीत सिंह ने पूर्व सीएम हुड्डा को यह कहा कि अशोक तंवर को छोड़कर किसी को भी चुनाव लड़वाने के लिए भेज दें तो वे चुनाव जितवा देंगे अन्यथा अशोक तंवर को रगड़ा लगाएंगे। उनसे सवाल यह है कि वे खुद तो चुनाव जीत नहीं सकते, किसी को क्या जिताएंगे और जनता ने स्वयं रणजीत सिंह को रगड़ा लगा दिया, उनके मुख से ऐसी हास्यास्पद बातें शोभा नहीं देती। सच तो यह है कि अशोक तंवर जैसे राष्ट्रीय नेता द्वारा सिरसा का प्रतिनिधित्व करने के बाद इन नेताओं की दुकानदारी बंद हो गई है जिसे बहाल करने के प्रयास में वे अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं। नवीन केडिया ने कहा कि रणजीत सिंह बार-बार इस तरह की गुस्ताखी करते हैं और हर बार माफी मांगते हैं। उन्होंने  पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा की मौजूदगी में डॉ. अशोक तंवर को प्रवासी पक्षी कहा, ऐसे में हुड्डा को भी उनके साथ माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने पार्टी हाईकमान से मांग की है कि ऐसे नेता के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करे और उन्हें 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित किया जाए। केडिया ने कहा कि रणजीत सिंह के पार्टी से निष्कासन की मांग को लेकर वे प्रदेश प्रभारी को ज्ञापन भी देंगे और पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांधी व उपाध्यक्ष राहुल गांधी से भी मुलाकात करेंगे। अंतिम फैसला पार्टी हाईकमान ने करना है लेकिन उन्हें और पूरे प्रदेश में कांग्रेस के नेताओं को इस बात का दुख जरूर है कि एक राष्ट्रीय नेता के प्रति इस तरह की अशोभनीय टिप्पणी की गई। नवीन केडिया ने कहा कि सिरसा में हमेशा कांग्रेस जीतती रही है लेकिन जबसे लोकदल परिवार के लोग कांग्रेस में आए हैं, तब से कांग्रेस सारी सीटें हारती गई। पार्टी हाईकमान को इसका संज्ञान लेना चाहिए। इस अवसर पर उनके साथ पूर्व जिला पार्षद रमेश भादू, शीशपाल केहरवाला, टेकचंद मिढ़ा, कुलदीप गदराना, सुभाष जोधपुरिया, नगरपालिका उकलाना के चेयरमैन समीर इंदौरा, गोपाल कंबोज, हरदास रिंकू, राजू बजाज, राजेश अंबरसर, अमरपाल खोसा, भवानी सिंह, एनएसयूआई के जिला प्रधान मैक्स साहुवाला, बंसीलाल जमाल, मदन सुथार, पंकज चौहान, चंदन गाबा, नवदीप दलाल, उर्मिल भारद्वाज सहित काफी संख्या में कांग्रेस नेता उपस्थित थे। 

No comments