इनैलो के गढ़ सिरसा में नहीं है कोई भाजपाई चौधरी

सिरसा(प्रैसवार्ता)। हरियाणा में भाजपाई शासन होने के बावजूद भी जिला सिरसा बगैर भाजपाई चौधरी के है। शासन में भागीदारी होते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने एक भाजपाई दिग्गज जगदीश चौपड़ा एडवोकेट को अपना राजनीतिक सलाहकार बनाया हुआ है, मगर चौपड़ा गिने चुने भाजपाईयों के अतिरिक्त किसी से तालमेल नहीं रख रहे। कांग्रेस छोड़कर भाजपाई ध्वज उठाकर भाजपाई टिकट पर चुनाव लडऩे वाली सुनीता सेतिया और पूर्व मंत्री जगदीश नेहरा को भी भाजपा रास नहीं आ रही, क्योंकि भाजपा पहले ही आपसी कलह व गुटबाजी की चपेट में है। परिषद चुनाव और भाजपाई संगठन चुनाव नजदीक आते ही देखकर भाजपाईयों ने सक्र्रियता तो बढ़ा दी है, मगर इस इनैलो के गढ़ में भाजपाई चौधरी कौन होगा, को लेकर क्यास शुरू हो गए है। जिला में भाजपा का सदस्यता अभियान लगभग पूरा हो चुका है। भाजपा के सूत्रों मुताबिक इस बार चौधर किसी गैर जाट को ही सौंपी जा सकती है, मगर यह देखा जा रहा है कि कौन सा गैर जाट इस इनैलो के गढ़ में भाजपाई ध्वज उठाने वालों का आंकड़ा बढ़ाने में सक्षम है। वैसे तो भाजपाई चौधर की कतार में कई लोग है, मगर सबसे ज्यादा पलड़ा डबवाली विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ चुके देव कुमार शर्मा का नजर आता है, जो युवा भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष भी रह चुके है। सिरसा, ऐलनाबाद तथा रानियां से भाजपा टिकट पर चुनाव लड़ चुके क्रमश: सुनीता सेतिया, पवन बैनीवाल तथा जगदीश नेहरा चुनावी समर में भाजपाई बने है। इसलिए इनकी गिनती कहीं नजर नहीं आती, क्योंकि भाजपा में दागी, बागी व अवसरवादियों के लिए जगह मुश्किल है। भाजपाई चौधर किसे मिलेगी, यह तो आने वाला समय ही बताएगा, मगर वर्तमान में देवकुमार शर्मा के आसार ज्यादा नजर आ रहे है।

No comments