लिव-इन-रिलेशनशिप बना मौत की वजह: प्रेमी संग भाभी ने हमला कर देवर को उतारा मौत के घाट

सिरसा(प्रैसवार्ता)। बड़ागुढ़ा थाना क्षेत्र के गांव नागोकी में पीट-पीटकर एक व्यक्ति को मौत के घाट उतारे जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। इस हमले में एक 11 साल का बच्चा व मृतक का साथी भी घायल हुए हैं। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल पहुंचाया है। बड़ागुढ़ा थाना प्रभारी कंवर सिंह मामले की जांच में जुट गए हैं। प्रैसवार्ता को मिली जानकारी के अनुसार अलीकां निवासी सुखा पुत्र मीता सिंह गांव में ही खेती-मजदूरी का काम करता था। उसका भाई बिन्द्र सिंह किसी मामले में राजस्थान की जेल में बंद है। उसकी भाभी बीरपाल उसके साथ लिव इन रिलेशनशिप में रह रही थी। तीन माह पूर्व वह अपने पुत्र लाभ उर्फ रोडू को सुखा के पास छोड़कर नागोकी गांव की ढाणी खजान सिंह निवासी गुरजीत सिंह के साथ रहने लगी थी।  बताया जाता है कि गुरजीत सिंह का जमींदारा है और पैसे के मामले में वह सुखा से कहीं बेहतर है। बीरपाल गुरजीत के पास अपना समय बिताने लगी थी। इसी बात को लेकर सुखा खफा था। बताया जाता है कि सुखा बीरपाल को वापिस लाने के लिए उसके पुत्र लाभ उर्फ रोडू (11 साल) व अपने दोस्त नाथी के साथ नागोकी ढाणी जा पहुंचा। उसने बीरपाल से साथ चलने के लिए कहा। लेकिन बीरपाल ने उसके साथ जाने से मना कर दिया। उसने सुखा के साथ रिश्तों को नकार दिया और गुरजीत के साथ ही रहने की बात कही। दोनों के बीच काफी देर मान-मनुहार चली। लेकिन बीरपाल ने गुरजीत के साथ ही रहने की बात दोहराई। इस बात को लेकर दोनों पक्षा में कहा सुनी हो गई। पुलिस में दर्ज करवाए अपने ब्यान में नाथी ने बताया कि ढाणी पहुंचने पर बीरपाल कौर व उसके प्रेमी गुरजीत सिंह और उसके चार पांच साथियों ने उन पर हमला बोल दिया। उन्हें बुरी तरह से मारा पीटा गया। बुरी तरह से जख्मी करने के बाद उन्हें जीप में डालकर अलीकां के पास फेंक गए। जब सुखा को उपचार के लिए बड़ागुढ़ा ले जाया जा रहा था तो उसने रास्ते में दम तोड़ दिया। इस हमले में सुखा के टांग, हाथ टूट गए थे। जबकि नाथी और रोडू भी घायल हो गए हैं। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए सिरसा अस्पताल पहुंचाया है। इस मामले में पुलिस ने नाथी के ब्यान पर बीरपाल कौर व गुरजीत सिंह तथा चार अन्य के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर तलाश शुरु कर दी है। 

No comments