राहत के साथ नुकसान और प्रदर्शन

कालांवाली(प्रैसवार्ता)। पिछले कई दिनों से भयंकर गर्मी के कारण लोग परेशान थे वहीं देर रात्रि करीब 15 एमएम आई बरसात के साथ लोगों ने गर्मी के मौसम से राहत की सांस ली वहीं नरमा व कपास की फसल के लिए बरसात बरदान सिद्व हुई है लेकिन दूसरी और बात करें तो नई मंडी में खुले आसमान के निचे पड़ा लाखों रूपए का गेंहू भीग गया है। जिससे किसानों,आढ़ती और खरीद एजेंसीयों को नुक्सान हुआ है। बरसात के कारण गेंहू के कट्टों का वजन बढ़ गया तो सुबह लेबर ने काम बंद दिया और लेबर का रेट बढ़ाने की मांग रखी। करीब दो घंटे तक पूरा मामला चला और फिर थाना प्रभारी अनिल सोढी,आढ़ती ऐसोसियशन के अध्यक्ष संजीव बांसल,उपाध्यक्ष बिट्टू असीर,मार्किट कमेटी के सचिव कुलदीप सिंह ने आढ़ती और लेबर के लोगों के बीच राजीनामा की शुरूआत की और 2 रूपए रेट पर दोनों पक्षों का राजीनामा करवाया। गेंहू भीगा हुआ है और अगर बरसात और आती है तो और ज्यादा नुक्सान हो सकता है क्योंकि अब भीगे हुए गेंहू के कट्टों को पलटा जा रहा है और उन्हें सुखाने के प्रयास तो किए जा रहे है लेकिन अगर बरसात आती है तो ऐसा कोई विशेष इंतजाम नहीं है कि कट्टों को भीगने से बचाया जा सके। 
तालावंदी कर किया प्रदर्शन,बढ़ा रेट 
बरसात के आने से लेबर के लोगों ने हड़ताल कर दी। लेबर की और से हड़ताल करने की सूचना जैसे ही गुप्तचर विभाग,पुलिस,आढ़ती लोगों के पास पहुंची तो उन्होंने लेबर की सहमति करवाने की कोशिश की। लेकिन बात नहीं बनी तो लेबर के लोगों ने नई मंडी के गेटों पर तालावंदी करके अपना प्रदर्शन शुरू कर दिया। लेबर केे लोगों की अगुवाई सेवक सिंह,नक्षत्र सिंह,काला सिंह,नाजम सिंह,सुखदेव सिंह,अजमेर सिंह,सुख्खा सिंह,बलदेव,रमेश,ठाकुर,प्रीतम आदि कर रहे थे। लेबर के लोगों ने कहा कि पिछली बार उन्हें अढ़ाई रूपए प्रति कट्टा का भाव मिला था लेकिन इस बार मात्र 1 रूपए 90 पैसे ही मिल रहे है। लेबर के लोगों ने अढ़ाई रूपए रेट करने की मांग रखी लेकिन आढ़ती लोग नहीं मानें क्योंकि सरकार की ओर से निधार्रित रेट 1 रूपया 60 पैसे है आढ़ती लोगों का कहना था कि हम तो पहले ही अधिक दे रहेे और क्यों दें। बरसात ने नुक्सान कर दिया अब और नुक्सान नहीं झेला जाऐगा। 
हुई नोकझोंक
लेबर अढ़ाई रूपए की मांग कर रही थी तो कुछक आढ़ती लोगों ने कहा कि वह अपनी दुकान की लेबर से और कुछक यूपी के मजदूरों की और से काम करवाऐगें जैसे ही एक ट्रक में गेंहू भरने का सिलिसिला शुरू हुआ तो रेट की मांग करने वाले लेबर के लोगों ने कट्टे भरने वाली लेबर के साथ काफी नोकझोंक की पुलिस के हस्तक्षेप से झगड़ा होते होते टला वरना बड़ा नुक्सान हो सकता था। 

No comments