भगवान का नाम सुखों की खान, सुमिरन करते रहो : संत गुरमीत

सिरसा(प्रैसवार्ता)। भगवान का नाम सुखों की खान है। जब इन्सान भगवान का नाम लेता है और निरंतर लेता चला जाता है तो आने वाले पहाड़ जैसे कर्म कंकर में बदल जाते हैं। भावना का शुद्धिकरण करोगे तो अंदर से नजारे मिलने शुरू हो जाएंगे। उक्त उद्गार संत गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां ने रविवार को शाह सतनाम जी धाम में आयोजित सत्संग के दौरान कहे। उन्होंने सत्संग के दौरान 7135 लोगों को गुरुमंत्र, नामशब्द देकर उन्हें बुराइयां त्यागने का संकल्प करवाया। हजारों लोगों ने रूहानी जाम ग्रहण कर मानवता की सेवा करने का प्रण लिया।  श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आप पैदल जा रहे हैं, चलते फिरते , उठते बैठते सुमिरन कर सकते है। वो सुमिरन फलदायी जरूर होगा, सुमिरन कभी खाली नहीं जाता। थोड़ा करो, ज्यादा करो वो फायदा अवश्य करता है। पूज्य गुरुजी ने कहा कि सुमिरन के लिए अहम बात है कि वचनों पर पक्के रहो। उन्होंने कहा कि मालिक दया के सागर है वो तो रहमो करम करते ही रहेंगे। अगर अंदर के नजारे लेने हैं तो शुद्ध भावना से उसे अंदर से पैदा करो, फिर वो नजारे मिलने लगेंगे जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती, उन्हें लिख बोल कर बयान नहीं किया जा सकता। पूज्य गुरुजी ने कहा कि अगर शुद्ध भावना व दृढ़ यकीन से मालिक का नाम जपो, जितना समय आप सजने संवरने में लगाते हो उससे आधा भी अगर मालिक की याद में लगा दो तो आपका यह जहान और अगला जहान दोनों संवर जाए।  नेपाल में डेरा सच्चा सौदा द्वारा किए जा रहे राहत कार्यों के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि वहां हर तरफ तबाही का मंजर है। 80-90 प्रतिशत मकान तबाह हो चुके हैं। कई जगह तो लोग पहुंच ही नहीं पाए है अभी भी लाशें मलबे में दबी है। रास्ते बहुत दुर्गम है। वहां बहुत ठंड है और लगातार बरसात होने के कारण मौसम और भी ज्यादा खराब है। लोगों के पशु भी अंदर दब गए हैं। भूकंप शनिवार को सुबह आया, यदि रात को आता या सोमवार को आता तो नुकसान बहुत ज्यादा होना था। शनिवार होने के कारण स्कूलों की छुट्टी थी, जिस कारण बच्चे बच गए। 

No comments