किसान ने मौत को लगाया गले

सिरसा(प्रैसवार्ता)। बेमौसमी बरसात के कारण नष्ट हुई गेहूं व सरसों की फसल के कारण प्रदेशभर में किसानों द्वारा की जा रही आत्महत्या का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। कर्ज के बोझ तले और परिवारिक भरण-पोषण को लेकर किसान लगातार आत्महत्या जैसा कदम उठाने को मजबूर हो रहे है। सिरसा के गांंव लकड़ावाली में इस परेशानी के चलते एक किसाने ने जहरीले पदार्थ का सेवन कर आत्महत्या कर ली है। मृतक किसान का शव पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल में लाया गया है। प्रैसवार्ता को मिली जानकारी के अनुसार गांव लकड़ावाली निवासी हरनेक सिंह पुत्र जसवंत सिंह (55) ने अपने ही घर में सलफास का सेवन की लिया। बिगड़ती हालत को देख उसके परिजनों ने उसे सिरसा के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां उपचार दौरान उसकी मौत हो गई। मृतक हरनेक के परिजनों से बात की गई, तो उन्होंने बताया कि गांव लकड़ावाली में उनकी दो एकड़ जमीन है और हरनेक कड़ी मेहनत से उस पर कार्य करता था। पिछले दिनों बेमौसमी बरसात से उसकी फसल पूरी तरह से नष्ट हो गई, जिसके चलते हरनेक सिंह मानसिक रूप से परेशान रहने लगा और इसी मानसिक परेशानी के चलते हरनेक सिंह ने सल्फास का सेवन कर अपनी जान दे दी। पुलिस ने मृतक के शव का पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंप दिया है।

No comments