कृषि विभाग मे इंजीनियरिंग कर देश व किसानो की करूंगी सेवा- खूशबू वालिया

टोहाना(प्रैसवार्ता)। कहते है पूत कपूत के पांव पालने मे ही नजर आ जाते है। यही कुछ साबित कर दिखाया है टोहाना के माडल केएम स्कूल की नान मैडिकल की छात्रा खूशबू वालिया ने। हरियाणा शिक्षा बोर्ड द्वारा 6 मई को घोषित किए गए बाहरवीं के परिणाम में टोहाना की खुशबू वालिया  94.2  प्रतिशत से अधिक अंक लेकर साबित कर दिया है बेटिया किसी भी क्षेत्र मे बेटो से कम नही है। खूशबू ने अपने इस शानदार रिजल्ट से पूरे जिले मे माता-पिता व स्कूल का नाम रोशन किया है।  खुशबू ने गणित विषय मे 95 अंक,कैमिस्ट्री मे 97 अंक,फिजिक्स मे 100 अंक,हिंदी मे 94 अंक प्राप्त किए। खूशबू के पिता का नाम अविनाश वालिया व उनकी माता का नाम सुमन है। खूशबू की माता गृहणी है जबकि पिता का अपना बिजनैस है और शहर के समाजसेवी है। खूशबू का  एक छोटा भाई हर्षित वालिया है। जो आठवीं का छात्र है। खूशबू ने बताया कि जब से मेरे परिवार मे रिजल्ट की खबर आई हैैैैैैैैै। उसके घर मे बधाई देने वालो का तांता लगा हुआ है। खूशबू ने बताया कि वह स्कूल से आने के बाद घर के काम मे अपने माता का हाथ बंटाती है छोटे भाई को पढाकर उसकी मदद करती है।  वह स्क्ूल टाईम के अलावा घर मे भी 8 से 10 घंटे पढाई करती है। खूशबू ने अपने लक्ष्य के बारें बताया कि उसका लक्ष्य कृषि विभाग मे इंजीनियरिंग कर देश का नाम रोशन करना है क्योंकि भारत एक कृषि प्रधान देश है यहां के किसान देश की जनता का पेट भरने के लिए दिन रात मेहनत कर अन्न पैदा करते है। उनके लिए नई तकनीको पर खोज कर किसानो व देश की सेवा करना ही लक्ष्य है। खूशबू ने कहा कि मेरी इस कामयाबी के पीछे जितना सहयोग मेरे माता -पिता का है उतना ही मेरे शिक्षिको व माडल केएम स्कूल के अध्यापकों व प्राचार्य का है। विद्यालय के प्राचार्य रणधीर पूनिया का मानना है  कि ऐसी छात्राए ही बेटी बचाओ व बेटी पढाओ के संदेश को एक नया रूप प्रदान करती है जिससे लोगो की बेटियो के प्रति मानसिकता में बदलाव आता है। 
                      पिता की लाडली है खूशबू-खूशबू के पिता अविनाश वालिया ने बताया कि खूशबू का एक छोटा भाई है। उन्होने बताया कि खूशबू उसक ा भाई दोनो ही शिक्षा के क्षेत्र मे अग्रणी रहे है। मुझे अपनी बेटी पर गर्व पर है। खूशबू ने इतने अच्छे अंक लेकर हमारा नाम रोशन किया है। खूशबू ने दसवीं मे 96 फीसदी अंक  प्राप्त कि ए है। खूशबू उनकी लाडली बेटी है तथा उनका परिवार बेटा ओर बेटी को एक समान समझते है।
बेटिया ही है घर की शान-मां
खुशबू की माता सुमनवालिया ने कहा कि मुझे अपनी बेटी पर गर्व है तथा मै लोगो को संदेश देना चाहूंगी कि बेटियां आज किसी भी क्षेत्र मे बेटो से कम नही है बस जरूरत है उन्हे प्यार देने की। 

No comments