सिरसा में जीरो प्रतिशत ब्याज के नाम पर दिया जा रहा है झटका

सिरसा(प्रैसवार्ता)। जिलाभर में जीरो प्रतिशत ब्याज पर घरेलू सामान देने वाली कंपनियों में निरंतर वृद्धि हो रही है और लोग इनके जाल में फंस रहे है। जानकारी के अनुसार इन कंपनियों द्वारा जीरो प्रतिशत ब्याज पर घरेलू सामान व जरूरत का सामान खरीदने का दावा किया जाता है, जबकि यह दावा इतना आसान नहीं होता, जितना प्रचार किया जाता है। दरअसल ऐसा प्र्रचार ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए किया जाता है। सूत्रों के अनुसार कोई भी ऐसी आईटम नहीं होती, जिस पर 6 प्रतिशत से कम का ब्याज न लगता हो। उदाहरण के तौर पर रंगीन टीवी 24 हजार रूपए का है और फाईनैंस कंपनी एक वर्ष के लिए दो-दो हजार रूपए की बारह किश्ते बनाती है, परंतु आरंभ में ही कुल राशी का दो से लेकर चार प्रतिशत तक डाकूमैंट चार्जेज और प्रोसैसिंग फीस के नाम पर लेे लिया जाता है। केवल इतना ही नहीं, चार किश्ते एडवांस लेकर फाईनैंस कंपनी शेष किश्तों की अदायगी आठ मास में करनी होती है, जबकि दावा 12 महीनों में किया जाता है, जिसके मूल में काफी मार्जन होता है, क्योंकि किश्त ऊपर देने वाली आईटम का मूल्य पहले ही बाजार से कहीं ज्यादा होता है। 24 हजार वाला टैलीविजन बाजार में नकद भुगतान पर 22-23 हजार रूपए में आसानी से मिल जाता है, जबकि फाईनैंस वाला टीवी फाइल चार्ज वगैरा लगाकर पच्चीस हजार से ज्यादा होता है। इससे स्पष्ट होता है कि ग्राहक से लगभग दो हजार रूपए आठ मास तक लिए जाते है, जिन पर ब्याज 6 से 8 प्रतिशत पड़ता है। ज्यादातर कंपनीज अपना सामान बिक्री बढ़ाने के लिए फाईनैंस स्कीम शुरू कर देती है, जिससे न सिर्र्फ उनके सामान की बिक्री बढ़ती है, बल्कि ज्यादा मुनाफा भी होता है। कंपीटिशन के चलते कई कंपनीज जीरो प्रतिशत डाकूमैंट चार्ज न लेने का दावा करती है, मगर चीज का दाम ऐसा फिक्स कर दिया जाता है, जिससे ग्राहक को जोर का झटका धीरे से लगता है। ग्राहकों को झांसे में फंसा कर या फिर उसकी जरूरती मजबूरी का फाईनैंसर खूब फायदा उठाते है। काबिलेगौर है कि जीरो प्रतिशत ब्याज की अदायगी के लिए फाईनैंस कंपनी डेट बाऊंड चैक लेकर पहले ही पूरी कर लेती है, ताकि ग्राहक कंपनी की राशि पर कुंडली न मार सके।

No comments