बेटे ने फादर्स डे पर डकैतों से भिड़कर बचाई पिता की जान

प्रैसवार्ता न्यूज : अजमेर(कलसी)। फादर्स डे पर बेटे ने जान पर खेलकर पिता की जान बचाई। रविवार सुबह हथिायर से लैस पारदी गिरोह चंदवरदाई नगर में लेखाधिकारी के घर चोरी के इरादे से घुस गए। उन्होंने लेखाधिकारी और उनके बेटे पर हमला कर दिया। बेटे के शोर मचाने से डकैत घबराकर भाग गए। बाद में पड़ोसियों ने घायलों को जवाहरलाल नेहरू अस्पताल पहुंचाया। रामगंज थाना पुलिस ने जानलेवा हमला व रात में चोरी की नियत से मकान में दाखिल होने का मामला दर्जकर अनुसधान शुरू कर दिया। पुलिस के अनुसार चन्दवरदाईनगर निवासी लेखाधिकारी जे.डी. पारवानी को रविवार सुुबह 2.30 बजे घर के बाहर खटपट की आवाज आई। उसने रसोईघर की खिड़की से बाहर देखा लेकिन उसे कोई नजर नहीं आया। पारवानी ने हिम्मत जुटाकर मुख्य द्वार खोला। दरवाजा खोलते ही एक युवक उसको धक्का देते हुए भीतर दाखिल हुआ। उसके साथ तीन अन्य भी अन्दर आए और दरवाजा बंद कर दिया। चीख सुन पहली मंजिल पर सो रहा पारवानी का बेटा नरेश बाहर आया तो उसकी आंखे खुली रह गई। उसने पिता पर हथियार से ताबड़तोड़ वार कर रहे शातिर को धक्का देकर दूर करने प्रयास किया लेकिन आरोपितों ने नरेश पर हमला बोल दिया।
धारदार हथियार से सिर, सीने और हाथ पर हुए ताबड़तोड़ वार से नरेश और उसके पिता की चीखें निकल गई। शोर होने से जाग का खतरा मंडराता हुआ देख शातिर चोर भागने में कामयाब रहे। पड़ोसियों ने जेण्डी पारवानी और नरेश को जवाहरलाल नेहरू अस्पताल पहुंचाया। वारदात के एक घंटे बाद पुलिस को घटना की इत्तला मिली। सुबह अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (शहर) प्रवीन जैन, एसएचओ भूपेन्द्रसिंह मौके पर पहुंचे। पुलिस ने जानलेवा हमला और रात में चोरी की नियत से घर में दाखिल होने का मामला दर्ज किया है।

फादर्स डे पर दिया तोहफा
फादर्स डे पर नरेश ने अपना पुत्र धर्म निभाया। डकैतों ने उसके पिता को चाकू मार दिया था। आवाजें सुनकर उसकी नींद नहीं खुलती तो शातिर बड़ी वारदात अंजाम देने में कामयाब हो जाते। नरेश के शोर से चोर भी घबरा गए। हालांकि शातिर चोर पारवानी और उसके बेटे के सिर, हाथ, चेहरे और पेट पर धारदार हथियार से जख्मी कर दिया। दोनों को लहूलुहान हालत में छोड़ फरार हो गए। नरेश ने हिम्मत जुटाकर 108 को कॉल किया। जबकि पड़ोसी डॉ. देवेन्द्र शर्मा व अशोक कश्यप ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया। शातिर के बाहर भागते ही पारवानी ने तत्परता बरते हुए दरवाजा बंद कर दिया। पारवानी ने बताया कि उन्हें लगा कि शातिर पुन: भीतर दाखिल ना हो, इसीलिए उन्होंने दरवाजा बंद कर दिया। गनीमत रही कि नरेश की पत्वी दीया अपने दो बच्चों के साथ ऊपर के कमरे में दुबकी रही अन्यथा बड़ा हादसा हो जाता।

नाम व साजिश उगलवाने में नाकाम रही पुलिस
वारदात का तरीका पारदी गिरोह से मिलता है। शुक्रवार को जिला पुलिस की विशेष टीम ने जयपुर इंटेलीजेंस की रिपोर्ट पर मध्यप्रदेश गुना के पारदी गिरोह के पांच गुर्गों को गिरफ्तार करने में तो कामयाब रही लेकिन पुलिस उनका मुंह खुलाने में नाकाम रही। पुलिस उसने उनके अन्य साथियों के नाम और वारदातों का खुलासा नहीं कर सकी।

No comments