फतेहाबाद में शराब और कबाब के साथ पैलेस में चलाई गई बेटी बचाओ बेटी पढाओ मुहिम

इंटरनेट से ली गई एक फोटो।
फतेहाबाद(प्रैसवार्ता)। केंद्र और प्रदेश सरकार गिरते लिंगानुपात को रोकने के लिए चाहे लाखो दावो कर ले, लेकिन जिला स्तर पर बैठे कुछ आधिकारियों की बदौलत इन दावों की हवा निकलती साफ तौर पर दिखाई दे रही है। प्रदेश सरकार की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर प्रदेश मे बेटी बचाओ बेटी पढाओ मुहिम चलाई जा रही है। जिसके लिए करोडो के बजट का प्रावधान भी किया गया है, बल्कि इस मुहिम को सफल बनाने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर खुद इस मामले को गंभीरता से ले रहे है। इसके लिए सीएम के सलाहाकार डा योगिंद्र मलिक ने पिछले दिनो प्रदेश के सभी जिलो का दौरा भी किया था। जिसमे प्रशासनिक अधिकारियों को सख्त लहजे मे इस मुहिम को सफल बनाने की बात कही गई थी। लेकिन फतेहाबाद की बात की जाए तो टीवी चैनल के माध्यम से दिखाई गई एक खबर के अनुसार इस कार्यक्रम में प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने इस योजना के सहारे शराब पीने, कबाब खाने और डीजे पर थिरकने से पीछे नहीं हटे। यही कारण है कि फतेहाबाद प्रशासन की यह मुहिम रात को 10 बजे के बाद देर रात्रि शुरू होती है। फतेहाबाद मे शनिवार रात को ऐसा ही नजारा देखने को मिला। फतेहाबाद के प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और आईएमए की ओर से सांझा तौर पर शहर के आशीवार्द पैलेस मे बेटी बचाओ बेटी पढाओ मुहिम के तहत एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। जिसके चलते पूरे पैलेस को बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के बैनरो से सजाया गया था। टीवी में चली खबर में दिखाया गया है कि इस कार्यक्रम मे स्वास्थ्य विभाग के सीएमओ सूरजभान कंबोज, एसएमओ ओपी दहमीवाल सहित विभाग के कई सरकारी डाक्टर, एडीसी राजेश जोगपाल, सभी अल्ट्रासांउड सैंटर संचालक थे। इस कार्यक्रम को रखने का मुख्य उद्देश्य डाक्टरो और अल्ट्रासाउंड सैंटर संचालकों को इस मुहिम से जोडना था। लेकिन पैलेस का नजारा कुछ ओर ही ब्यां कर रहा था। बताया जा रहा है कि इस कार्यक्रम मे मिडिया को आने की मनाही रखी गई थी, इसके लिए बकायदा एडीसी साहब के निर्देश पर एक पुलिस पीसीआर को भी तैनात किया गया था। ताकि कोई मिडिया कर्मी अंदर ना घुस सके। इस कार्यक्रम मे जमकर शराब चल रही थी, कबाब चल रहा था। सभी लोग शराब का लुत्फ उठा रहे थे और अयाशी की जा रही थी, इस अयाशी के लिए अफसरों ने कितना पैसा करकार का लुटाया और वो पैसा कौन से फंड से आया इसकी जांच भी जरूरी है। इतना ही नही जब सब लोग शराब के सरूर मे बह गए गानो पर डीजे का इंतजाम भी किया गया था। जहां पर कार्यक्रम मे शामिल लोग जमकर थिरके।  टीवी चैनल की खबर में दिखाए गए  कार्यक्रम में विभाग के अधिकारियों द्वारा की जा रही ऐंशपरस्ती की जा रही थी तो इससे साफ तौर पर अंदाजा लगाया जा सकता है कि बेटी को फतेहाबाद मे कैसे बचाया जाता है। इस संबंध में जब फतेहाबाद के सीएमओ सूरजभान कंबोज से संपर्क किया गया तो उन्होंने बार बार रिंग जाने के बाबजूद भी फोन नही उठाया।  

ये बोले भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला
वही इस मामले मे जब बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला से पूछा गया तो उन्होने कहा कि मीडिया के माध्यम से उन्हे जानकारी मिली है। अगर इस तरह से सार्वजनिक तौर पर काई अधिकारी ऐसा काम करते है तो उन पर कारवाई की जाएगी। इसके लिए उन्होने डीसी को इस मामले की जांच सौंपी।

मामले की जांच कर रहा हूं: उपायुक्त एन के सोलंकी
फतेहाबाद के उपायुक्त एन के सोलंकी ने बताया कि हमे योग के कार्यक्रम में मीडिया से जानकारी मिली। बताया जा रहा है कि कार्यक्रम आईएमए की ओर से था। मैने टीवी पर देखा जिसमें स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी व एडीसी भी दिखाई दे रहे थे। मैं मामले की जांच कर रहा हूं। अगर इस बेटी बचाओं बेटी पढाओं के कार्यक्रम में शराब का सेवन करने तथा अश्लील गानो पर थिरकने की बात हुई तो हम कार्रवाई करेंगें। स्टाफ की और से पता करवाया जा रहा है।

No comments