शहर में चर्चा: कड़कती गर्मी में सिटी थाना के बाहर भूखे बैठे है पत्रकार, पुलिस क्यों नहीं कर रही आरोपियों को गिरफ्तार?

सिरसा(प्रैसवार्ता)। गली ब्रह्माकुमारीज आश्रम वाली के फर्जी निर्माण मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी न होने के चलते पत्रकारों की क्रमिक भूख हड़ताल दूसरे दिन में प्रवेश कर गई है। दूसरे दिन भूख हड़ताल में पत्रकार रमेश गंभीर, पत्रकार अरूण बंसल, पत्रकार दीपिका, पत्रकार अंजनी गोयल, पत्रकार इंद्रजीत अधिकारी, देवेंद्र टक्कर व प्र्रदीप गुप्ता बैठे। इनका नेतृत्व कर रहे पत्रकार इंद्रजीत अधिकारी ने बताया कि नगर परिषद के प्रधान व अधिकारियों ने भ्रष्टाचार की सभी सीमाएं लांघ दी है और पुलिस प्रशासन भी इन पर हाथ नहीं डाल रहा है।
इसी के चलते पत्रकारों को पहले धरने पर बैठना पड़ा था और अब भूख हड़ताल पर बैठना पड़ा है। भ्रष्टाचार के खिलाफ शुरू की गई इस मुहिम को समाज के हर वर्ग का भरपूर साथ मिल रहा है। भूख हड़ताल पर बैठे पत्रकारों व अन्य गणों का कहना है कि जब तक पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर लेती, तब तक यह क्रमिक भूख हड़ताल जारी रहेगी। अगर इसके बावजूद भी गिरफ्तारी न हुई, तो मजबूरन सड़कों पर उतरना होगा। इस मामले में पुलिस द्वारा आरोपी बनाए गए पार्षद प्रधान सुरेश कुक्कु, पंचायती राज विभाग के कार्यकारी अभियंता धर्मवीर दहिया व ठेकेदार उमेश गुप्ता को अभी तक पुलिस गिरफ्तार नहीं कर पाई है, लेकिन जेई अरूण व एमई सुबेर सिंह को पुलिस गिरफ्तार की चुकी है। इन बड़े मगरमच्छों की गिरफ्तारी जरूरी है। जब तक इन मगरमच्छों की गिरफ्तारी नहीं हो जाती तब तक ताबाल की पूर्ण सफाई नहीं हो पाएगी। इस मामले में सिटी एसएचओ का कहना है कि दो को गिरफ्तार कर चुके है, अन्यों की जल्द गिरफ्तार कर लेंगे।
नगर परिषद में उठी जेई व एमई को रिहा करने की मांग
नगर परिषद सिरसा में बीते दिवस पुलिस रिकॉर्ड लेने के लिए पहुंची और रिकॉर्ड मांगने को लेकर विवाद शुरू हो गया। नगर परिषद में नगर पालिका संघ व सफाई कर्मचारी यूनियन हरियाणा के कर्मचारियों ने इस विवाद के चलते नगर परिषद में तालेबंदी करते हुए अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी दे दी। मौके पर लोग भी एकत्रित हो गए और सूत्रों की मानें, तो नगर परिषद में कुछ कर्मचारियों ने जेई व एमई को रिहा करने की मांंग करने की बजाए कोर्ट को चैलेंज कर दिया कि अगर इनकी रिहाई न हुई तो वह अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। हालांकि बाद में कर्मचारियों ने अपने शब्दों को वापिस लेते हुए रिहाई की मांग की और कहा कि जेई व एमई निर्दोष है, मामले की जांच होनी चाहिए। इसके बाद उन्होंने पंचायत भवन में मंत्री बेदी से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा।
शहर में चर्चाओं का माहौल
नगर परिषद में कर्मचारियों द्वारा किए गए प्रदर्शन, भूख हड़ताल पर बैठे पत्रकारों व कांग्रेस द्वारा दिए गए धरने को लेकर शहर में चर्चाओं का माहौल है। चर्चा है कि पुलिस ने गत दिनों छोटी मछलियों को पकड़ तो लिया, मगर मगरमच्छ को पकडऩा आसान नहीं है, खैर पुलिस उन्हें भी पकड़ ही लेगी। 
हरियाणा रोड़वेेज कर्मचारी संघ ने दिया समर्थन
हरियाणा रोडवेज वर्करज यूनियन सम्बन्धित (सर्वकर्मचारी संघ हरियाणा) के डिपो प्रधान मदनलाल खोथ ने नगरपरिषद् के घोटाले के विरोध में पत्रकारों एवं व्यापारियों द्वारा अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल के समर्थन में कहा है किनगरपालिका के सभी भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ पुलिस द्वारा मुकदमा तो दर्ज कर लिया गया है लेकिन यदि 72 घंटे के अन्दर आरोपी अधिकारियों को गिरफ्तार नहीं किया गया तो वे अपने साथियों सहित इस भूख हड़ताल में बैठ जाएंगे। आरोपी अधिकारियों को तुरन्त गिरफ्तार किया जाना चाहिए वरना ऐसा न हो कि सिरसा की आम जनता उनके खिलाफ सड़कों पर उतर आए और शहर का माहौल खराब हो।
हरियाणा लोकहित पार्टी ने भी दिया समर्थन
हरियाणा लोकहित पार्टी की ओर से गोबिंद कांडा ने इस भूख हड़ताल को समर्थन दे दिया है। उन्होंने कहा कि गोपाल कांडा के समय में करोड़ों की राशि विकास के लिए नगर परिषद में आई थी, जिसे नगर परिषद के भ्रष्ट अधिकारी डकार गए है। वे इस भूख हड़ताल को समर्थन देते है और भ्रष्ट अधिकारियों की गिरफ्तारी का मांंग करते है।







No comments