दीपाली केस : मर्डर या मौत..! - The Pressvarta Trust

Breaking

Sunday, July 26, 2015

दीपाली केस : मर्डर या मौत..!

File Photo: Deepali Singla
सिरसा(प्रैसवार्ता)। पिता ने बड़े ही अरमानों से बेटी की शादी की....कहते है कि कन्यादान पिता का सबसे बड़ा धर्म होता है और बेटी की विदाई पिता को तोड़ देती है, लेकिन उस वक्त एक पिता के दिल पर क्या गुजरती है, जब वहीं बेटी दुनिया से विदा हो जाती है। 
देश में महिलाएं कहीं भी सुरक्षित नहीं है। दिल्ली, मुंबई जैसे महानगरों के बाद अब बठिण्डा में एक महिला को बेरहमी से मार दिया गया। घटना बठिण्डा की है। जीं हां, हम बात कर रहे है सिरसा की बेटी दीपाली की, जिसकी शादी प्रेमियों के सबसे खास दिन वैलेनटाइन के दिन यानि कि 14 फरवरी 2015 को बठिण्डा निवासी साहिल गोयल से हुई। लेकिन किसी ने सोचा भी नहीं था कि कहानी में जल्द ही बदलाव आएगा। बदलाव यूं आया कि साहिल ने रोजाना अपनी नई-नई मांंगे दीपाली के पिता के आगे रखनी शुरू कर दी, लेकिन बाप का दिल ठहरा, सो बेचारे मान जाते....लेकिन हद तो तब हुई, जब दीपाली का जन्मदिन था, 29 जून को तब साहिल ने दीपाली के पिता से गाड़ी की मांंग की, तो उसे पूरी करने में पिता ने असमर्थता जाहिर की, जिसका नतीजा दीपाली को भुगतना पड़ा। नतीजा ऐसा कि दीपाली को यह कीमत जान देकर चुकानी पड़ी। दीपाली के पिता ने आरोप जड़ा है कि  ससुराल वालों ने उसकी बेटी की बेरहमी से हत्या की है। वहीं पोस्टमार्टम की रिपोर्ट कुछ ओर ही बयां करती है, के अनुसार दीपाली की मौत दम घुटने से हुई है, लेकिन पिता कहते है कि उसके ससुराल वालों ने बेरहमी से हत्या की है और पुलिस प्रशासन इस मामले में कोई ठोस कदम नहीं उठा रहा है, क्योंकि सुसरालजनों की हाईप्रोफाइल नेताओं तक पहुंच है, जिससे वह कार्रवाई से बच रहे है। कहा जाता है कि नारियां को पूजा होती है, वहीं देवता निवास करते है। भारत जैसे विकासशील देश में हर घंटे 1 बेटी दहेज हत्या की बलि चढ़ती है, तो इससे जाहिर क्या होता है। अब देखना यह होगा कि दीपाली को इंसाफ मिलेेगा या नहीं।

बेरहमी से दीपाली की हुई हत्या
दीपाली के पिता का आरोप है कि उसकी बेटी की बेरहमी से हत्या की है।




No comments:

Post a Comment

Pages