चिकित्सा केंद्र में सुविधाओं का टोटा, ग्रामीणों का प्रदर्शन

रानियां(प्रैसवार्ता)। गांव अभोली में पशु अस्पताल केंद्र पर सेवाओं से खफ ा होकर ग्रामीणों ने केंद्र पर प्रशासन के खिलाफ  नारेबाजी कर रोष प्रकट किया। रोष प्रकट करते हुए ग्रामीणों ने राजकीय पशु अस्पताल पर प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि चिकित्सा केंद्र पर कई दवाईयां उपलब्ध नहीं है। पशुओं को बीमारी की स्थिति में दवाईयां दूर दराज से लानी पडती हैं।  प्रदेश सरकार द्वारा पशु अस्पताल में सुधार के लाख दावे किए जाते है, लेकिन गांव अभोली मे केंद्र स्वयं बीमारी के हालात में है। 

ग्रामीणों ने लगाए कई आरोप
ग्रामीण सुरेंद्र सिंह, तरसेम सिंह, गुरुविंद्र सिंह, रवि, जोगिंद्र राम ने आरोप लगाया कि अनेक रोगों की दवाईयां कई बार केंद्र पर पंहुचती है और कई बार पंहुचती नहीं है। जिससे समय पर पशुओं को दवाईयां उपलब्ध करवाने में परेशानी होती है। पशु अस्पताल झर्जर हालात में है। दीवारों में दरारें आ चुकी हैं। राजकीय अस्पताल की चारदीवारी स्कूल के साथ लगती है। चारदीवारी कई जगह से टूटी हुई है। यह चारदीवारी केवल 3 फुट है जबकि यह चारदीवारी 7 फुट होनी चाहिए। स्कूल व पशु अस्पताल का गेट साथ साथ है। जिसके कारण वहां गेट खुला रखना पडता है। 

सरपंच से लगाई कई बार गुहार, मगर नहीं हुआ समाधान
इस बारे में सरपंच को कई बार गुहार लगाई गई लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ। ग्रामीणों ने मांग की है कि पशु अस्पताल की झर्जर हालात को सुधारा जाए और दवाईयां समय पर उपलब्ध करवाई जाएं।

क्या कहते हैं अधिकारी
इस बारे में पशु अस्पताल के इंचार्ज भोजराज ने बताया कि कई दवाईयां तो अस्पताल में उपलब्ध हैं जबकि कुछ दवाईयां समय-समय पर उपलब्ध होती हैं। जिसके बारे में विभाग ही निर्धारित करता है।  झर्जर हालात के बारे में उच्चाधिकारियों को अवगत करवाया जाएगा। 

No comments