गली फर्जी निर्माण मामले में पुलिस ने किया नामों का खुलासा

प्रधान सुरेश कुक्कू, ईओ बीएन भारती, एमई सुबेर सिंह, जेई अरुण कुमार, ठेकेदार उमेश गुप्ता, एक्सईएन धर्मवीर दहिया से होगी पूछताछ

सिरसा(प्रैसवार्ता)। नगर परिषद के भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग को लेकर शुक्रवार को एक दिवसीय सांकेतिक धरने को हर वर्ग का समर्थन मिला। इस धरने में पत्रकारों के साथ व्यापारिक संगठनों, सामाजिक, धार्मिक व कर्मचारी तथा समाजसेवी संगठनों ने समर्थन देते हुए इसमें शामिल हुए। पत्रकार इंद्रजीत अधिकारी व पत्रकार अंजनी गोयल की अगुवाई में किए गए इस धरने का समापन पुलिस प्रशासन को 9 जुलाई तक भ्रष्ट अधिकारियों की गिरफ्तारी का अल्टीमेटम देने के साथ संपन्न हुआ। यदि 18 जून को दर्ज एफआईआर संख्या 461 पर कार्रवाई करते हुए नगर परिषद के भ्रष्ट अधिकारियों को गिरफ्तार नहीं किया गया तो नगर के विभिन्न संगठनों के साथ 10 जुलाई को थाना शहर के समक्ष क्रमिक अनशन शुरू किया जाएगा। जिसके तहत हर रोज पांच लोग अनशन पर बैठेेंगे जबकि सैकड़ों अन्य धरने में शामिल होंगे। 
उल्लेखनीय है कि धरने के दौरान थाना शहर प्रभारी सुभाष बिश्रोई द्वारा इस एफआईआर के मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए 15 दिन का समय मांगा गया था। उन्होंने कहा कि इस मामले में पुलिस को एक-दो सबूत और जुटाने हैं जिसके बाद आरोपियों को नोटिस किए जाएंगे। उनसे पूछताछ की जायेगी और दोषियों को गिरफ्तार कर सजा दिलाई जाएगी। उन्होंने विश्वास दिलाया कि इस मामले में किसी भी आरोपी को अग्रिम जमानत नहीं मिल पाएगी। धरनारत पत्रकारों के समक्ष उन्होंने इस मामले में आरोपियों के नामों का भी खुलासा किया। बरनाला रोड स्थित गली ब्रह्माकुमारी आश्रम वाली के फर्जी निर्माण मामले में उन्होंने नगर परिषद के प्रधान सुरेश कुक्कू, तत्कालीन ईओ बीएन भारती, एमई सुबेर सिंह, जेई अरुण कुमार व ठेकेदार उमेश गुप्ता तथा पंचायती राज विभाग के कार्यकारी अभियंता धर्मवीर दहिया के नाम उजागर किए। 
यहां वर्णनीय है कि नगर परिषद के भ्रष्ट अधिकारियों ने अपनी जेब भरने के लिए वैसे तो शहर में सौ से अधिक गलियों का फर्जी निर्माण किया हुआ है। अनेक मामलों की जांच चल रही है। सैकड़ों गलियों के निर्माण में धांधली बरती गई है। दर्जनों शिकायतें पेंडिंग हैं। अनेक शिकायतें सीएम विंडों पर हैं लेकिन नगर परिषद के भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई आज तक अमल में नहीं लाई गई। गली ब्रह्माकुमारी आश्रम वाली के फर्जी निर्माण का मामला उजागर होने के बाद शहर पुलिस ने 18 जून को थाना शहर में भारतीय दंड संहिता की धारा  406, 409, 420, 465, 466, 467, 468, 471, 120बी के तहत मामला दर्ज किया गया था। इस मामले में आरोपियों ने रिश्वत देकर बच निकलने की चालें चलनी शुरू कर दी। भ्रष्ट अधिकारियों की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस प्रशासन को अल्टीमेटम दिया गया था जिसके तहत 3 जुलाई को थाना शहर के समक्ष धरना दिया गया। शहर पुलिस द्वारा इस मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए 15 दिन का समय मांगा गया था। पत्रकारों व विभिन्न संगठनों की ओर से नगर परिषद के भ्रष्ट अधिकारियों की गिरफ्तारी के लिए 9 जुलाई तक का समय पुलिस को दिया गया है। 9 जुलाई तक भ्रष्ट अधिकारियों की गिरफ्तारी न होने पर 10 जुलाई को थाना शहर के समक्ष क्रमिक भूख हड़ताल शुरू की जाएगी। 

No comments