भाजपा पत्रिका ने लगाए अकाली सरकार को रगड़े

सिरसा(प्रैसवार्ता)। पंजाब में शिरोमणी अकाली दल (बादल) और उनकी सहयोगी भाजपा के बीच हरियाणा विधानसभा चुनाव को लेकर शुरू हुई आंख मिचौली से ऐसे राजनीतिक आसार बन गए है कि भाजपा अपनी पुरानी परंपरा का अनुसरण करते हुए कभी भी अकाली दल तालमेल से राजनीतिक तलाक ले सकती है। भाजपाई पत्रिका "कमल सुनेहा" के संपादकीय में ओरबिट बस प्रकरण, सरकारी तंत्र का रवैया, सरकार के कुप्रशासन, पुलिस तथा राजस्व विभाग के विरोध में लोगों की शिकायतों पर खुलकर अकाली सरकार पर हमले किए है। संपादकीय में जिक्र किया गया है कि बादल सरकार में विधायक और मंत्रियों तक भी कोई सुनवाई नहीं होती, आम जनता किस दौर से गुजर रही है। अधिकारी सिर्फ अकाली मंत्रियों की ही सुनते है, जबकि भाजपाई मंत्रियों के फोन तक नहीं सुने जाते। संपादकीय में लिखा गया है कि पंजाब विधानसभा के स्पीकर चरणजीत सिंह अटवाल के पास करीब अढ़ाई दर्जन विधायकों ने 33 अधिकारियों के रवैये को लेकर शिकायतें दर्ज करवाई गई है, मगर कोई सुनवाई नहीं, जो बादल सरकार और उसके प्रशासन के लिए शुभ संकेत नहीं है। विधायकों की चीख पुकार पर ध्यान न देने से उनके समर्थक व लोग इस कद्र खफा है कि बेसब्री से विधानसभाई चुनावों का इंतजार कर रहे है। भाजपाई पत्रिका में पंजाब में टोल प्लाजा विवाद को लोगों का आर्थिक शोषण बताकर बादल सरकार पर निशाना साधा गया हैै। आनंद मैरिज एक्ट को हरियाणा में लागू करने की भरपूर प्रशंसा करते हुए संपादकीय में अकाली सरकार की इस संबंध में चुप्पी की आलोचना करते हुए सिख मतदाताओं में भाजपाई सेंध का संकेत दिया है। भाजपाई पत्रिका में सिखों की समस्याओं के समाधान न होने को लेकर अकाली दल को आरोपों के घेरे में लाकर भाजपा अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने के प्रयास में दिखाई देती है। केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा पंजाब को विशेष आर्थिक पैकेज देने की बजाए स्पष्ट इंकार करने से भी यहीं लगता है कि अकाली-भाजपा तालमेल तलाक की तरफ बढ़ रहा है। इससे पूर्व भाजपाई दिग्गज एवं पूर्व सांसद नवजोत सिंह सिधु, मुख्य संसदीय सचिव डॉ. नवजोत कौर समय-समय पर बादल सरकार को अपने निशाने पर रखे हुए है। हरियाणा में अपने बलबूते पर भाजपाई सरकार के बनने से उत्साहित भाजपा पंजाब में भी अपने दम पर भगवा ध्वज लहराने का स्वपन संजाए हुए है। शायद यहीं कारण रहा होगा कि भाजपाईयों में बगावती स्वर अक्सर गूंजते देखे गए है।

No comments