पति यातायात तथा पत्नी महिला सुरक्षा संभालेगी सिरसा में

सिरसा(प्रैसवार्ता)। पति पुलिस कप्तान तथा पत्नी अतिरिक्त उपायुक्त की कार्यप्रणाली से खुश जिलावासियों को सरकार ने एक दंपति उपहार में दी है, जो अपनी कर्तव्यनिष्ठा के लिए पुलिस प्रशासन में विशेष महत्व रखती है। इस दंपति के अनिल सोढ़ी यातायात प्रभारी है, तो इनकी पत्नी सीमा रानी 28 अगस्त को शुरू होने वाले महिला थाना की प्रभारी होने जा रही है। मुख्य संसदीय सचिव हरियाणा बक्शीश सिंह विर्क इस महिला थाने का शुभारंभ करेंगे। "प्रैसवार्ता" को मिली जानकारी के अनुसार ला पोस्ट ग्रेजुएट सीमा रानी जिला में घरेलू विवाद के चलते बिछड़े पति-पत्नी के बीच के विवाद को शांतिप्रिय माहौल में निपटाकर घर बसाने की जिम्मेवारी संभाल रही है। सीमा रानी की कार्यप्रणाली को देखते हुए उन्हें महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेवारी सौंप कर पुलिस प्रशासन ने सराहनीय कदम उठाया है, क्योंकि सीमा रानी कानून की पढ़ाई भी जानती है और वह विवादित मामलों में कानून से जागरूक करवाकर उजडऩे से पहले ही घर को बसा देने में सक्षम है। सोढ़ी दंपति एक ही बैच के भर्ती है। महिला पुलिस थाना की प्रथम प्रभारी सीमा रानी ने 30 जून को महिला सैल का कार्यभार संभाला था तथा मात्र पौने दो महीने के कार्यकाल में सीमा रानी को घरेलू विवाद की 221 शिकायतें मिली, जिनमें से अपनी सूझबूझ के चलते 135 मामलों का राजीनामा करवा दिया है, जो पुलिस विभाग की एक बड़ी उपलब्धि के रूप में देखा जाता है।  सीमा रानी की कुशलता ने पुलिस प्रशासन को महिला पुलिस थाना प्रभारी बनाने के निर्णय लेने का कदम उठाया है। केवल इतना ही नहीं, यातायात प्रभारी अनिल सोढ़ी ने बगैर होमगार्ड जवानों के भी यातायात व्यवस्था को बिगडऩे नहीं दिया, बल्कि अपनी शैली से यातायात नियमों का पालन करने वालों का आंकड़ा बढ़ाया। पुलिस अधीक्षक अश्विन शैणवी का कहना है कि इस पुलिस महिला थाना में तीन गाडिय़ां, दो बाइक सहित डेढ़ दर्जन महिला कर्मियों की नियुक्ति की जा रही है और 29 अगस्त को यह महिला पुलिस थाना अपना कार्य शुरू कर देंगे। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रतीक्षा गोदारा को नोड़ल अधिकारी नियुक्त की गई है। 28 अगस्त को रक्षा बंधन के पावन पर्व पर मुख्य संसदीय सचिव हरियाणा बक्शीश सिंह इसका शुभारंभ करेंगे। शैणवी ने उम्मीद जताई है कि महिला पुलिस थाना महिला अपराधों पर अंकुश लगाने में पूर्णयता सफल रहेगा औैर महिलाओं की सुरक्षा को ओर अधिक मजबूती मिलेगी। इससे पूर्व पुलिस प्रशासन द्वारा महिला सैल, महिला हैल्पलाइन, महिला पीसीआर शुरू की हुई है, मगर अब महिला थाना के स्थापित होने से महिलाओं से संबंधित अपराधों पर कारगर ढंग से अंकुश लगेगा।

No comments