सिरसा के नवनीत की करतूत बयां कर रो पड़ी विन्नी

सिरसा(प्रैसवार्ता)। प्यार की राह हमेशा से मुश्किल बताई गई है लेकिन अगर उसमें धोखे की खाइयां आ जाएं तो इस सफर का अंजाम बुरा भी हो सकता है। उम्मीदों का बोझ और झूठे वादों की चुभन, प्यार करने वालों को जानी दुश्मन में तब्दील कर सकती है और यहीं एंट्री होती है कानून की। चंडीगढ़ की एस.एल विन्नी ने स्थानीय मीडिया सैंटर में पत्रकार वार्ता कर सिरसा के नवनीत तनेजा पर कई आरोप जड़े है। विन्नी ने पत्रकारों से कहा कि सिरसा में नवनीत नाम का एक शख्स है, जो अनाज मंडी की शॉप नम्बर 119 में रहता है। कुछ समय पूर्व नवनीत ने चंडीगढ़ में एक इंस्टीट्यूट खोला था, जहां पर कई कोर्स करवाए जाते थे। विन्नी ने कहा कि वह भी वहां कोर्स करने गई थी और उसकी मुलाकात नवनीत सेे हुई। यह मुलाकात प्यार में तबदील हुई। दोनों के नंबर एक्सचेंज हुए। विन्नी ईसाई परिवार की थी और नवनीत हिंदू परिवार का। नवनीत ने विन्नी को शादी के लिए परपोज किया और विन्नी ने हां कर दी। इसके बाद दोनो परिवारों की सहमति से 12 अगस्त 2012 को चंडीगढ़ के सैक्टर 15 स्थित गुरूद्वारा साहिब में विन्नी व नवनीत का विवाह हो गया। इसके बाद विन्नी सिरसा स्थित अपने ससुराल मे आ गई। विन्नी का आरोप है कि उसके सिरसा आने के बाद पहले तो सारा कुछ सही चलता रहा, रस्में अदा होती रही, लेकिन नवनीत के परिवार वालों ने उसे बाद में प्रताडि़त करना शुरू कर दिया। उसकी सास सुदेश रानी व ससुर संतोष कुमार तनेजा द्वारा यह कहा गया कि उनकी चार बेटियों की शादी हुई है, जिसमें उन्होंने बहुत कुछ दिया था, लेकिन तू घर से कुछ नहीं लाई। इन्हीं मांगों से मजबूर होकर उसे वापिस मायके जाना पड़ा। विन्नी ने यह भी कहा कि मायके जाने के बाद मेरे पति नवनीत से मेरी फोन पर बात होती रही। मैने कनेडा का वीजा भी अप्लाई किया हुआ था, जिसे मैंने एक बार रिजेक्ट कर दिया, मगर दूसरी बार नवनीत की रजामंदी से रिसीव कर लिया और कनेडा चली गई। कनेडा से आने के बाद पिछले वर्ष की 30 जून को वह ससुराल गई, तो वहां मेरे पति नवनीत ने मुझे बिजनेस में नुकसान का हवाला देते हुए कनेडा की सारी कमाई हथिया ली। विन्नी ने आरोप लगाया कि  इस दौरान उसकी ननद व उनके देवर पुनीत कुमार तनेजा ने उससे मारपीट की और अलग-अलग होटलों में मुझे प्रताडि़त किया। इसके बाद चंडीगढ़ के एक किराए के मकान में भी उसे प्रताडि़त किया गया। इसी से तनावग्रस्त होकर उसके पिता की मौत हो गई। इसके उपरांत नवनीत ने कोर्ट में इस शादी को गैर कानूनी कहते हुए केस डाल दिया, जिसे कोर्ट ने रद्द कर दिया। ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

रो पड़ी विन्नी
पत्रकार वार्ता में नवनीत की करतूत बयां करते हुए विन्नी रो पड़ी। विन्नी ने रोते हुए कहा कि मैं ईसाई परिवार से हूं, इसलिए मुझे इतना प्रताडि़त किया। यहां तक कि इस शादी को भी गैर कानूनी करार दे दिया। मैंने 11 दिसंबर 2014 को मैंने चंडीगढ़ पुलिस में शिकायत दी, मगर कोई कार्रवाई न हुई। धर्म व कानून की आड़ में किसी से शादी कर बाद में उसे ठोकर मार देना गलत है। ऐसे लोगों के खिलाफ पुलिस को सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

पुलिस प्रशासन व मंत्री को भी दी शिकायत
पत्रकार वार्ता करने उपरांत विन्नी ने पुलिस प्रशासन को इस मामले से अवगत करवाया। इसके उपरांत हरियाणा राज्य के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्ण कुमार बेदी को एक शिकायत सौंपते हुए कार्रवाई की मांग की। मंत्री बेदी ने विन्नी को आश्वासत किया कि उसके साथ न्याय होगा।

डोमेस्टिक वॉयलेंस व रेप का हो सकता है मामला
विन्नी ने पत्रकार वार्ता में कहा है कि उसे बार-बार ससुराल पक्ष की ओर से प्रताडि़त किया गया है। कानूनी विशेषज्ञों की मानें, तो यह मामला घरेलू हिंसा या डोमेस्टिक वॉयलेंस का भी हो सकता है। घरेलू हिंसा या डोमेस्टिक वॉयलेंस का मतलब है कि महिला के साथ किसी भी तरह की हिंसा या प्रताडऩा। अगर महिला के साथ मारपीट की गई हो या फिर मानसिक प्रताडऩा दी गई हो तो वह डीवी एक्ट के तहत आएगा। डीवी एक्ट-31 के तहत चलने वाले केस गैर जमानती और कॉग्नेजिबल होते हैं और इसमें दोषी पाए जाने पर एक साल तक कैद के साथ ही 20 हजार रुपये तक जुर्माने का भी प्रावधान है। विन्नी ने बताया कि नवनीत ने इस शादी को गैर कानूनी कहा है और यदि यह शादी गैर कानूनी है, तो फिर ये मामला रेप का भी हो सकता है...!

No comments