मेडिकेयर अस्पताल के संचालक डॉ. नरवचन सिंह पर मामला दर्ज

सिरसा(प्रैसवार्ता)। डबवाली रोड़ स्थित मेडिकेयर अस्पताल में उपचाराधीन मरीज की मौत हो जाने के बाद मृतक के परिजनों ने हंगामा कर दिया। मृतक के परिजनों का आरोप था कि डॉक्टर ने पैसे की मांग को लेकर शव को देने से मना कर दिया। हंगामें की सूचना मिलने पर शहर थाना प्रभारी मौके पर पहुंचे तथा शव को पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल में पहुंचाया। प्रैसवार्ता को मिली जानकारी के अनुसार गांव धिंगतानियां निवासी 25 वर्षीय विनोद पुत्र रतनलाल ने 14 अगस्त को मानसिक परेशानी के चलते स्प्रे पी ली थी, जिससे उसकी हालत बिगड़ी गई थी। परिजनों ने उसे डबवाली रोड़ स्थित मेडिकेयर अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां 21 अगस्त की रात्रि करीब 11 बजे उसकी मौत हो गई। मृतक विनोद के परिजनों ने बताया कि उन्होंने विनोद के उपचार के लिए अब तक डॉक्टर को करीब 95 हजार रूपए दिए और गत दिवस डॉक्टर ने ओर पैसों की मांग की तथा पैसे न दिए जाने पर उसने विनोद के उपचार में लापरवाही बरती तथा उपचार देने से मना कर दिया। मृतक के पिता रतनलाल ने बताया कि उसने अपने बेटे के उपचार के लिए अपना 60 हजार का बाइक भी 25 हजार में बेच दिया तथा डॉक्टर को रूपए दिए। लेकिन बीते दिवस चिकित्सक ने पैसे न दिए जाने के चलते उसके बेटे के उपचार में लापरवाही बरती, जिससे उसकी मौत हो गई। डॉक्टर पर आरोप है कि विनोद की मौत शुक्रवार सुबह ही हो चुकी थी और उन्हें रात को इसकी सूचना दी तथा बकाया पैसा मांग रहाा है तथा शव देने से मना कर रहा है। परिजनों द्वारा हंगामा किए लाने पर शहर थाना प्रभारी मौके पर पहुंचे और डॉक्टर व परिजनों से बात की। 
पुलिस ने दर्ज किया मामला
मेडिकेयर अस्पताल के संचालक डॉ. नरवचन सिंह पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

सभी आरोप निराधार
मेडिकेयर अस्पताल के संचालक नरवचन सिंह का कहना है कि उस पर लगाए गए सभी आरोप निराधार है। मरीज के परिजनों ने केवल 10 हजार रूपए ही उसके पास जमा करवाए है। जब मरीज की हालत ठीक थी तो उन्होंने मरीज को सामान्य अस्पताल में शिफ्ट कर लेने की सलाह दी थी, लेकिन मरीज के परिजन यहीं से उपचार करवाना चाहते थे। उन्होंने शव न दिए जाने के आरोप को झूठा बताते हुए कहा कि विनोद की हालत शुक्रवार सुबह खराब होने लगी थी तथा रात को करीब 11 बजे उसकी मौत हुई है।

No comments