शहर थाना के बाहर क्रमिक भूख हड़ताल 64वें दिन भी जारी

सिरसा(प्रैसवार्ता)। सिरसा शहर में गलियों व सड़कों के निर्माण में धांधलियां बरती गई। भ्रष्ट अधिकारियों ने ठेकेदारों के साथ मिलकर माल बटोरा। जनता द्वारा एतराज जताने पर उसे नजरअंदाज कर दिया गया। शिकायतें की गई तो अनसुना कर दिया गया। घपले-घोटालों का यह दौर पिछले 10 वर्षों से सिरसावासी झेलते रहे। विभिन्न मंचों पर आवाज उठाने के बावजूद भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई अमल में नहीं लाई गई। यह बात शहर थाना सिरसा के क्रमिक भूख हड़ताल पर बैठे पत्रकारों व समाजसेवियों का नेतृत्व कर रहे पत्रकार इंद्रजीत अधिकारी ने कही। उन्होंने कहा कि  प्रदेश में सत्ता परिवर्तन कर लोगों ने यह उम्मीद जताई थी कि भ्रष्टाचारियों पर अंकुश लगेगा। लेकिन भ्रष्टाचार के मामले में सरकार बेशर्मी पर उतर आई है। भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय उन्हें बच निकलने के मौके दे रही है। सिरसा के पत्रकार, व्यापारी, कर्मचारी व समाजसेवी नगर परिषद के भ्रष्ट अधिकारियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर थाना शहर के समक्ष पिछले 64 दिन से क्रमिक अनशन व धरने पर हैं। 

No comments