सिरसा में किसकी शह पर चल रहा क्रिकेट सट्टा...'खाकी या खादी'

सिरसा(प्रैसवार्ता)। लगभग पूरे शहर के युवा क्रिकेट बुकियों के चंगुल में हैं। रातोंरात अमीर बनने का सपना संजोकर क्रिकेट पर धड़ाधड़ सट्टा लग रहा है जिससे कई लोग बर्बाद हो चुके हैं और कई बर्बादी की कगार पर हैं। शहर के पॉश इलाकों में क्रिकेट बुकीज सरेआम सट्टा लगवाकर अपना धंधा चला रहे हैं। सूत्र बताते हैं कि मैच के दौरान क्रिकेट बुकियों की तादाद दोगुनी हो जाती है। हर गली मोहल्ले में इनका नेटवर्क है। हैरानी इस बात से होती है कि पुलिस इन पर हाथ नहीं डालती। इसके पीछे सिर्फ 2 ही कारण नजर आते हैं या तो 'सैटिंग' या सफेदपोशों का संरक्षण। सूत्र बताते हैं कि सटोरियों को मिलने वाला यह पैसा अधिकतर सफेदपोशों या सूदखोरों का होता है। वह अपने पैसे के संरक्षण के लिए उनको गारंटी तक देते हैं। सूत्र तो यह भी बताते है कि क्रिकेट बुकियों ने अपने-अपने नुमाइंदे प्रत्येक गांव में बैठा दिए हैं और बड़े क्रिकेट बुकी पुलिस की नजर से बचने के लिए गांवों में बैठकर इस धंधे को चला रहे हैं। क्रिकेट बुकियों के हौसलों से यही लगता है कि इस बार उन्हें किसी बड़े खाकी वाले की या खादी वाले की शह है। 

No comments