श्रद्धाभाव से सभी ईश्वर को याद करते है: फादर जॉन एम फर्नांडिस

सिरसा(प्रैसवार्ता)। ईश्वर भेदभाव नहीं करता और सबसे बराबर स्नेह करता है।  हम एक दूसरे को खतरा न समझे और पे्रम पुर्वक व्यवहार करते हुए एक दूसरे का सम्मान करें। इसी प्रकार प्रकृति व स्वच्छता को महत्व देना भी ईश्वरीय संदेश है। उक्त उद्गार सैंट जेवियर सीनियर सैकेंडरी स्कूल के प्राचार्या फादर जॉन एम फर्नांडिस ने विद्यालय प्रांगण में आयोजित इंटर रिलीजियस डॉयलॉग कार्यक्रम के समापन समारोह में उपस्थित जन समूह में व्यक्त किए। समापन समारोह में हिंदू, सिख , मुस्लिम आदि धर्म संप्रदायों के प्रतिनिधि मौजूद थे। प्राचार्या फादर जॉन एम फर्नांडिस ने कहा कि ईश्वर के लिए संसार के सभी धर्म और सभी जातियां एक जैसी होती है। चूंकि सभी धर्म जातियों में ईश्वर को समान श्रद्धाभाव से याद किया जाता है और उसे ईश्वर, अल्लाह, गॉड आदि कहकर पुकारा जाता है। ईश्वर इंसान-इंसान के बीच किसी प्रकार का भेदभाव नहीं करता और उसकी नजर में संसार के सभी मनुष्य समान है। इसलिए वह किसी प्रकार की जाति-पाति के भेद का निर्माण नहीं करता और न ही संप्रदायों की दीवारें वह खींचता है। इसलिए हमें अपनी सोच एवं व्यवहार में बदलाव लाना चाहिए और नकरात्मक सोच को त्याग कर सकरात्मक दृष्टिकोण अपनाना चाहिए। कार्यक्रम में ब्रह्मकुमारी वनीता, द्रोण प्रसाद, मौलाना हाजी मोहम्मद, पंजाबी साहित्यकार डा. शेरचंद ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर फादर डोमनिक डॉयस,  फादर मॉर्डिन प्रेश,  फादर डिगो डिसुजा, फादर अमारो मार्टिन, सिस्टर मेरी लाबो, सिस्टर पे्रमा डिसुजा, ब्रदर जोसफ, पैरिश पादरी, पादरी लोकल सुपीरियर, स्कूल के मैनेजर, स्टॉफ सदस्य व गणमान्य लोग उपस्थित थे। 

No comments