हरियाणा, जहां वर्चस्व की लड़ाई हुई तेज: कांग्रेसी दिग्गज आमने-सामने, होशियारी लाल शर्मा प्रवक्ता रहेंगे या नहीं

सिरसा(प्रैसवार्ता)। हरियाणा प्र्रदेश कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर के बढ़ते जनाधार से चिंतित पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा नेे कांग्रेस हाईकमान को एक बार फिर प्रभावित करने का प्रयास किया है। हुड्डा के भतीजे संदीप हुड्डा दंपति को आशीर्वाद देने वालों में राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्री, कई राज्यों के राज्यपाल, पूर्व सांसद व पूर्व मंत्रियों के अतिरिक्त राहुल गांधी तथा प्रियंका गांधी विशेष रूप से उपस्थित हुए। हुड्डा ने कांग्रेस हाईकमान को एक आईना दिखाया है, कि उसके राजनीतिक संबंध अशोक तंवर से कहीं ज्यादा प्रभावी दिग्गजों के साथ है। छत्तीस के आंकड़े के बीच पिस रही हरियाणा कांग्रेस की जम्बो कार्यकारिणी में बढ़ौतरी की जा रही है, जिसमें हुड्डा गुट की अनदेखी को देखते हुए हुड्डा समर्थकों को एडजस्ट किया जाना है। हुड्डा अपने चहेते होशियारी लाल शर्मा को प्रांतीय प्रवक्ता बनाने का दवाब बना रहे है, जिसके लिए अशोक तंवर तैयार नहीं है। तंवर की दलील है कि शर्मा ज्यादा शिक्षित नहीं है और उन्होंने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी का विरोध किया था। विधानसभा चुनाव कांग्रेस की किसी भी बैठक में शर्मा उपस्थित नहीं हुए। ऐसे व्यक्तियों को पार्टी में सम्मानजनक पद देने से पार्टी छवि प्रभावित होगी। दूसरी तरफ हुड्डा की दलील है कि होशियारी लाल शर्मा की मीडिया पर पकड़ मजबूत है, जिसको जिम्मेवारी सौंपकर पार्टी का प्रचार ठीक ढंग से हो सकता है। अशोक तंवर ने हुड्डा गुट द्वारा कार्यकारिणी में एडजस्ट करने की सूची पर सहमति जता दी है, मगर शर्मा को लेकर तैयार नहीं बताए जाते। प्रदेश कांग्रेस कमेटी की कार्यकारिणी में उपाध्यक्ष, महासचिव, सचिव, संगठन सचिव व प्रैस प्रवक्ता शामिल किए जाने के लिए दूसरी सूची बनाई जा रही है। तंवर इस बात पर अडिंग है कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशियों को हराने वालों को कोई जिम्मेवारी न दी जाए। अनुशासन समिति के अध्यक्ष ए के एंटोनी को प्राप्त शिकायतों का संज्ञान लेते हुए तंवर से जांच पूरी कर रिपोर्ट देने के लिए कहा गया। सूत्रों के मुताबिक शिकायत की जांच में यदि कोई ऐसा कांग्रेसी चेहरा पाया जाता है, जिसने कांग्रेस प्रत्याशी का विरोध किया हो और वह प्र्रदेश कार्यकारिणी में स्थान प्राप्त करने में सफल हो गया, उसे भी पद मुक्त किया जाने पर विचार हो रहा है।

No comments