सीएम साहब, इसका खर्च कौन वहन करेगा!

सिरसा(प्रैसवार्ता)। प्र्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में स्वच्छ भारत की मुहिम चलाई हुई है, जिसमें वे खुद भी भारत को स्वच्छ रखने में शर्म नहीं गर्व महसूस करते है। इस मुहिम की शुरूआत मोदी ने खुद झाडू उठाकर की थी और इसी को देखते हुए लोगों ने भी झाडू उठाई और भारत को साफ करने निकले पड़े। इस मुहिम को लगभग एक वर्ष पूरा हो चुका है, लेकिन मोदी की इस मुहिम से भाजपा के कुछ नेता एवं कार्यकर्ता जुड़कर भी नहीं जुड़ पाए, क्योंकि उनकी कोई न कोई ऐसी कारगुजारी सामने आती रहती है, जिसे देख लगता है कि वे इस मुहिम का हिस्सा नहीं, बल्कि इसे खुद पर थोपा हुआ वजन महसूस करते है। बात अगर सिरसा की करें, तो हरियाणा के मुख्यमंत्री अपने कार्यकाल के एक वर्ष पूरा होने की खुशी में यहां एक जनसभा करने जा रहे है और अपनी उपलब्धियां व भाजपा द्वारा चलाई गई मुहिम से लोगों को अवगत करवाने आ रहे है। मगर उनके आने पर सिरसा की तस्वीर की तस्वीर कुछ ओर ही होने जा रही हैै। यहां सरकारी संपत्ति पर सीएम आगमन के कुछ पोस्टर चिपकाए गए है। पोस्टर चिपकाने वालों को शायद यह याद नहीं रहा कि उस संपत्ति पर कुछ ही समय पूर्व कलर किया गया था, जिस पर लाखों रूपए सरकारी खर्च हुआ था। हालांकि लोगों ने इन पोस्टरों को फाडऩे की संबंधित अधिकारियों से गुहार तो लगाई गई, मगर जांच का विषय यह है कि ये पोस्टर लगाए तो लगाए किसने? अगर यह पोस्टर फाड़ भी दिए जाते है, तो क्या इस पर कलर दोबारा होगा? अगर कलर दोबारा होता है तो इसका खर्च कौन वहन करेगा सरकार या फिर....?

No comments