जेसीडी इंजीनियरिंग कॉलेज में 'वीएलएसआई डिजाईन' पर आधारित साप्ताहिक कार्यशाला का विधिवत् शुभारंभ

सिरसा(प्रैसवार्ता)। जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित इंजीनियरिंग कॉलेज के एमटैक प्रथम व द्वितीय वर्ष को छात्रों को रिसर्च कार्य में मार्गदर्शन प्रदान करने हेतु राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान चंडीगढ़ के  सौजन्य से एक साप्ताहिक कार्यशाला का विधिवत् शुभारंभ सोमवार को किया गया, जिसका शुभारंभ एनआईटीटीटीआर संस्थान चंडीगढ़ के इलैक्ट्रॉनिक्स विभाग के प्रो. राजेश मेहरा द्वारा किया गया। इस मौके पर इंजी. कॉलेज के निदेशक-प्राचार्य कर्नल डॉ. जे.एस. विर्क, जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. जयप्रकाश विशेष रूप से उपस्थित हुए। वहीं इस कार्यशाला के समन्वयक कॉलेज के इलैक्ट्रॉनिक्स विभाग के अध्यक्ष इंजी. मनीष मैहता ने बताया कि इस कार्यशाला में विभिन्न सत्रों के माध्यम से एनआईटीटीटीआर   के अनुभवी शिक्षकों के अतिरिक्त सैमीकंडक्टर लैबोरेट्री, मोहाली के अध्यक्ष एच.एस. जटाना, एनआईटी कुरूक्षेत्र के प्रो. डॉ. आर.के. शर्मा, एनआईटी हमीरपुर के प्रो. डॉ. राजीवन चंडेल, आईआईटी रूडकी के प्रो. डॉ. आनंद बुलसु इत्यादि भी सभी प्रतिभागियों से अपना अनुभव सांझा करते हुए अनेक विषयों पर विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान करेंगे। इस कार्यशाला के बारे में जानकारी देते हुए एनआईटीटीटीआर संस्थान की रिसर्च व डैवलपमेंट अध्यक्ष डॉ. पी.के. तुलसी ने बताया कि इस कार्यशाला में देशभर से करीब 28 कॉलेज के प्रतिभागी हिस्सा लेंगे तथा नवीनतम जानकारियां हासिल करेंगे व कुछ हद तक अन्य शिक्षकों द्वारा अपने विचार भी प्रकट किए जाएंगे, जिससे सभी को ज्ञान प्राप्त होगा।  अपने संबोधन में सर्वप्रथम जेसीडी इंजीनियरिंग कॉलेज के निदेशक-प्राचार्य कर्नल डॉ. जे.एस. विर्क ने कहा कि ऐसी कार्यशालाओं के आयोजन से जहां विद्यार्थियों में रिसर्च से सम्बन्धित आकर्षण बढ़ेगा वहीं उन्हें इस दिशा में बेहतर ज्ञान प्राप्ति हो सकेगी। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य विद्यार्थियों को समय-समय पर ऐसे आयोजनों के माध्यम से विख्यात वैज्ञानिकों से रूबरू करवाकर उन्हें अपडेट रखना तथा उनका सर्वांगीण विकास करना है, जिस पर हम सदैव खरा उतरने का प्रयास करेंगे। कर्नल विर्क ने सभी प्रतिभागियों से आह्वान किया कि वे इस कार्यक्रम की जानकारी को विद्यार्थियों से सांझा करें ताकि जो इसमें हिस्सा नहीं ले पाएं हैं, उन्हें भी बेहतर जानकारी उपलब्ध हो सके।  इस कार्यशाला में इलैक्ट्रॉनिक्स एवं इलैक्ट्रीकल विभाग के करीब 30 से अधिक प्रतिभागी हिस्सा ले रहे हैं। वहीं शुभारंभ अवसर पर इंजी. कॉलेज के सभी विभागों के विभागाध्यक्ष व समस्त प्रतिभागी इस अवसर पर उपस्थित रहे। 

No comments