सिरसा के प्रदीप को है 'देवदूत' की आस

सिरसा(प्रैसवार्ता)। गिरीश शर्मा की भांति पीर बस्ती निवासी प्रदीप के परिवार को भी किसी 'देवदूत' की आस है। दोनों किडनियां खराब होने के कारण 14 वर्षीय प्रदीप का जीवन डायलेसिस पर निर्भर है। ऑटो चलाकर अपने परिवार का पालन करने वाला कृष्ण अपना सब कुछ दाव पर लगा चुका है। उसके पास मौत की ओर बढ़ते पुत्र की जान बचाने के लिए अब कोई रास्ता नहीं बचा है। उसे अब मददगारों से ही आस है कि कोई उसके पुत्र की जान बचाने के लिए आगे आएगा।  पीर बस्ती में गली कुंदन लाइनमैन वाली निवासी कृष्ण ने बताया कि उसका 14 वर्षीय पुत्र प्रदीप रानियां रोड स्थित महावीर दल स्कूल में आठवीं तक पढ़ा है। आठ माह पूर्व अचानक वह बीमार पड़ा तो उसका इलाज करवाया गया। जांच के दौरान ही चिकित्सकों ने बताया कि उसके दोनों गुर्दे खराब है। पिछले आठ-नौ महीनों से उसका विभिन्न सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों में इलाज चल रहा है लेकिन हालत में कोई सुधार नहीं है। चिकित्सकों ने किडनी ट्रांसप्लांट के लिए कहा है। मां और बाप दोनों ही किडनी देने के इच्छु्रक हैं मगर इस पर आने वाला खर्च उनके बूते से बाहर है। प्रदीप की मां ने रुआंसा होते हुए बताया कि उनके पास जो कुछ था वे इलाज पर खर्च कर चुके हैं। रिश्तेदारों से भी जो मदद मिल सकती थी ली। अब तो ऊपर वाले का ही भरोसा है। उन्हें भी गिरीश की भांति किसी मददगार की आस है। जिस प्रकार गिरीश की मदद के लिए लोगों ने हाथ बढ़ाए थे वैसे ही कोई न कोई उसके पुत्र की जीवन की रक्षा के लिए हाथ बढ़ाएगा। 

No comments