हरियाणा में बदली सरकार बदलेगी ग्राम की चौधर

(ग्रामीण महिलाओं में आ रही है जागरूकता)
सिरसा(प्रैसवार्ता)। हरियाणा में भाजपा की सरकार बनते ही ग्राम की चौधर में बदलाव दिखाई देने लगा है और महिलाएं इस कद्र जागरूक हो रही है कि घूंघट को त्यागकर ग्राम की चौधर संभालने की तैयारी करने लगे है। हरियाणा में निकट भविष्य में होने वाले पंचायती चुनाव में महिलाओं का आंकडा ज्यादा है, जो चौके-चुल्हे के साथ सरपंची व पंची भी संभालेगी। इससे पूर्व अनपढ़ सरपंच व पंच के पति, देवर या अन्य परिवारजन चौधर करते थे, जबकि चुनी गई पंचायतों में हस्ताक्षर/अंगूठा भी परिवारजन लगा देते थे। हरियाणा की मौजूदा भाजपा सरकार के निर्णय पर सप्रीम कोर्ट की स्वीकृति उपरांत सिर्फ शिक्षित महिलाएं ही सरपंच/पंच बन सकेगी और शिक्षित महिलाएं ही इस बार कमान संभालेंगी। पंचायती चुनाव में अब तक महिलाओं की भागीदारी नाममात्र ही रही है, क्योंकि पंचायती राज अधिनियम संशोधन उपरांत, जिस ग्राम में महिला का पद आरक्षित होता था, उस ग्राम में महिला की चुनावी जीत उपरांत उसकी शक्तियों का इस्तेमाल उसके परिवारजन करते थे, लेकिन हरियाणा की मौजूदा भाजपा सरकार ने  पंचायती चुनाव में शैक्षणिक योग्यता की शर्त अनिवार्य कर दी, जिसके चलते शिक्षित महिलाएं ही चुनाव लड़कर अपनी शक्ति का स्वयं इस्तेमाल कर सकेंगी। पूरे प्रदेश में महिलाओं ने एकजुट होकर चुनावी समर में उतरने की तैयारी शुरू कर दी है, जो विजयी परचम लहराकर अपने ग्राम की चौधर संभालेंगी।

                   

No comments