सावधान! महिलाओं की ब्यूटी बिगाड़ रहे है ब्यूटी पार्लर

सिरसा(प्रैसवार्ता)। हरियाणा प्रदेश के जिला मुख्यालय सिरसा की गलियों, मोहल्लों में बगैर किसी प्रशिक्षण के सौन्दर्य विशेषज्ञ बनी ज्यादातर महिलाएं ब्यूटी पार्लर खोलकर ब्यूटी निखारने की बजाए बिगाड़ रही है। ब्यूटी पार्लरों के वर्तमान ढंग स्वास्थ्य संबंधी हरियाणा सरकार पर स्वीकृति के बगैर या फिर किसी ब्यूटी पार्लर में कुछ समय हेयर कटिंग, थरैडिंग व ब्लीचिंग जैसे छोटे छोटे काम सीखकर हर महिला स्वयं को सौन्दर्य विशेषज्ञ समझकर ब्यूटी पार्लर खोल रही है। ब्यूटी पार्लर में आने वाली अधिकतर महिलाएं अस्थाई रूप से अपने चेहरे पर चमक लाने में तो जरूर कामयाब हो जाती है, मगर कई बार यह चमक शरीर के लिए हानिकारक बन जाती है। सस्ते और नकली सौन्दर्य प्रंसाधनों के प्रयोग से महिलाओं में चर्म रोग बढ़ रहे है। विदेशों में ब्यूटी पार्लर स्वास्थ्य मंत्रालय के आधीन है और स्वास्थ्य मंत्रालय से स्वीकृति किसी प्रशिक्षण केंद्र से निर्धारित समय तक प्रशिक्षण लेने वाली को ही ब्यूटी पार्लर खोलने की स्वीकृति मिलती है। भारत में भी ऐसी योजना लागू की जा रही है। सिरसा शहर में महिलाओं की तरह पुरूषों के लिए भी हेयर सैलून खुल चुके है, जहां मसाज, पैडीक्योर, ब्लीचिंग, फैशियल, हेयर डाई, स्किन थरैपी भी की जाती है। चिकित्सकों के अनुसार हेयर डाई का प्रयोग कई बार लोगों के लिए नुकसानदायक होता है। डाई में कई प्रकार के रसायन मिले होते है, जिसके प्रयोग से पूर्व टैस्ट जरूर कर लेना चाहिए। इसी प्रकार ब्लीचिंग का प्रयोग भी चर्म के लिए नुकसानदायक होता है। दिलचस्प तथ्य यह है कि ब्यूटी पार्लर संचालिका प्रशिक्षण देने के नाम पर हजारों रुपए लेकर उन्हें बकायदा प्रमाण पत्र देती है, जबकि स्वयं के पास कोई प्रमाण पत्र नहीं होता और न ही इस प्रकार का प्रमाण पत्र देने में सक्षम है। सिरसा में ऐेसे भी ब्यूटी प्रशिक्षण केंद्र है, जहां बकायदा सही ढंग से प्रशिक्षण दिया जाता है, जोकि सिरसा के अतिरिक्त देश के अनेक बड़े शहरों में प्रशिक्षण दे रहा है।

चर्म रोगियों की बढ़ रही है संख्या
चर्म रोग विशेषज्ञों के अनुसार सस्ते व नकली सौन्दर्य प्रसाधन महिलाओं में चर्म रोग उत्पन्न करते है। इसलिए ब्यूटी पार्लर जाने वाली महिलाओं को इस संबंध में विशेष ध्यान रखना चाहिए। अुनभवी तथा प्रशिक्षण प्राप्त कर चुकी ब्यूटी पार्लर संचालिकाओं से ही सौन्दर्य संबंधी उपचार करवाना चाहिए, क्योंकि अनुभवहीन सौन्दर्य विशेषज्ञ की बदौलत चर्म रोग होने की संभावना बनी रहती है।

तेजाब का भी होता है इस्तेमाल
बता दें कि कुछ ब्यूटी पार्लर संचालिका घटिया स्तर तथा नकली सौन्दर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल करती है। इनमें तेजाब मिला होता है, जो स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। देशभर में तेजाब का दुरपयोग एक कानूनी अपराध माना गया है, मगर यह ब्यूटी पार्लर संचालिकाएं इससे परिचित नहीं है या फिर कानून के रक्षकों की आँखों पर पट्टी बंधी हुई है। कानून के विशेषज्ञों का मानना है कि तेजाब का दुरपयोग एक कानूनन अपराध है, मगर नकली तथा घटिया स्तर के प्रसाधनों से स्वास्थ्य विभाग का बेखबर होना भी कई सवालिया निशान लगाता है। ब्यूटी पार्लर सरकारी निर्देशों पर नहीं चल रहे और न ही स्वास्थय विभाग ने कभी इन ब्यूटी पार्लरों में बिकने वाले नकली व घटिया स्तर के सौन्दर्य प्रसाधनों की सैंपलिंग इत्यादि की है।

शिकायत आने पर करेंगे कार्रवाई
देखिए ऐसा है कि हमारे पास इस संबंध में कभी कोई शिकायत नहीं आई है। चूंकि हमे आपसे ही पता चला है, तो हम इस दिशा में कदम उठाएंगे। अगर किसी की शिकायत आ जाती है, तो तुरंत कार्रवाई करेंगे।
डॉ. सूरजभान कंबोज, सिविल सर्जन, सिरसा


No comments