कुलदीप बिश्रोई पर कांग्रेसी शीर्ष नेतृत्व का बन सकता है फोक्स

सिरसा(प्रैसवार्ता)। आपसी कलह से जूझ रही हरियाणवी कांग्रेस को एक मंच पर लाने के लिए शीर्ष नेतृत्व कुलदीप बिश्रोई पर फोक्स बना सकता है, क्योंकि कुलदीप बिश्रोई के हरियाणा के ज्यादातर राजसी दिग्गजों से मधुर संबंध है, जिसकी पुष्टि हिसार में उनके भतीजे सिद्धार्थ बिश्रोई की शादी के उपलक्ष्य में दिए गए रिसैंपशन कार्यक्रम से मिलती है। पूर्व उप मुख्यमंत्री चंद्र मोहन बिश्नोई के बेटे सिद्धार्थ की शादी के उपलक्ष्य में दिए गए रिसैपशन में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर, कांग्रेस नेत्री किरण चौधरी, कैप्टन अजय यादव सहित भारी संख्यां में विभिन्न विभिन्न राजनीतिक दलों से जुड़े पूर्व सांसद व विधायकों ने उपस्थिति दर्ज करवाकर कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को अपनी राजनीतिक शक्ति दिखाई। इस रिसैपशन कार्यक्रम में दिल्ली, पंजाब व राजस्थान के राजसी दिग्गज भी शामिल हुए। कांग्रेसी दिग्गजों से कुलदीप बिश्नोई के मधुर संबंधों ने उन्हें कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के फोक्स पर ला दिया है। शीर्ष नेतृत्व सोच रहा है कि कुलदीप बिश्रोई ही बिखरे कांग्रेसी कुनबे को एकजुट कर सकते है। इसी के साथ ही कांग्रेस के एक घडे द्वारा नेतृत्व परिवर्तन के लिए बनाए गए दवाब पर विराम लग सकता है। कांग्रेस में कुलदीप बिश्रोई ही एकमात्र ऐसे चेहरे है, जो सभी दिग्गजों से तालमेल रखते है। कांग्रेस में शामिल होने के बाद कुलदीप बिश्नोई ने स्वयं को कांग्रेसी कलह से दूर रखा, जिस कारण सभी कांग्रेसी दिग्गज उनके नाम पर सहमति भी बना सकते है, ऐसा राजनीतिक पंडि़तों का मानना है। हरियाणवी कांग्रेस में कोई कद्दावर गैर जाट दिग्गज नहीं है, जिसकी कमी कुलदीप बिश्रोई को चौधर देने से पूरी हो सकती है। हरियाणवी राजनीति में कुलदीप बिश्रोई के पिता स्वर्गीय भजन लाल पूर्व मुख्यमंत्री हरियाणा को गैर जाटों का लीडर माना जाता रहा है। शीर्ष नेतृत्व यदि कुलदीप बिश्रोई को कांग्रेसी चौधर देता है, तो कई अन्य राजनीतिक पार्टियों से जुड़े राजसी दिग्गज भी कांग्रेसी ध्वज थाम सकते है।

No comments