कांग्रेस के खिसकते जनाधार को रोकने के लिए पूर्व सांसद रणजीत सिंह ने बढ़ाए कदम

Ranjeet Singh
सिरसा(प्रैसवार्ता)। हिचकौले खा रही जिला सिरसा की कांग्रेस तथा नेतृत्व की तलाश कर रहे कांग्रेसीजनों में पूर्व सांसद रणजीत सिंह की जिला स्तरीय बैठक में नई उम्मीद की किरण देखी जाने लगी है। रणजीत सिंह ने प्रांतीय तथा जिला स्तरीय कांग्रेस नेताओं से दूरी बनाते हुए अपने बलबूते पर 23 मार्च को किए गए शक्ति प्रदर्शन ने कांग्रेसीजनों को संजीवनी दे दी है, जो कांग्रेसी दिग्गजों के आपसी कलह के कारण निष्क्रिय होकर बैठ गए या फिर हृदय परिवर्तन की परंपरा पर चलते हुए कांग्रेस से अलविदाई ले गए थे। रणजीत सिंह की इस बैठक में उभरी भारी भीड़ से स्पष्ट हो गया है कि कांग्रेसीजनों में उत्साह तो है, मगर नेतृत्वहीन होने के चलते वह ठंडा पड़ गया है। कार्यकर्ताओं की बैठक रणजीत सिंह को इसलिए करनी पड़ी, क्योंकि उनके अपनों ने ही उनके राजनीतिक भविष्य को लेकर अफवाहें फैलानी शुरू कर दी थी। रणजीत सिंह की इस बैठक के साथ कांग्रेसीजनों ने रणजीत सिंह पर विश्वास व्यक्त करते हुए अपने कदम उनकी ओर बढ़ा दिए है, जबकि कांग्रेस के खिसकते हुए जनाधार को रोकने के लिए भी अपने कदम बढ़ा चुके है। रणजीत सिंह की इस कार्यकर्ता बैठक पर कोई भी टिप्पणी की जा सकती है, मगर इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि वह एक ऐसे कांग्रेसी नेता है, जिनका व्यापक जनाधार है और वह आज भी सभी वर्गों में लोकप्रियता रखते है। कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर के संसदीय क्षेत्र सिरसा में रणजीत सिंह की बैठक की उपस्थिति से उनके राजनीतिक कद की पहचान देखी जा सकती है। कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व यदि जिला सिरसा में कांग्रेसी ध्वज लहराता हुआ देखना चाहता है, तो रणजीत सिंह को राजनीतिक आशीर्वाद देना होगा, जो कांग्रेस हाईकमान की उम्मीदों पर खरा उतरने में सक्षम कहे जा सकते है।

No comments