डॉ. कपूर सिंह पर दाव खेल सकती है कांग्रेस

Congress
अंबाला(प्रैसवार्ता)। संसदीय क्षेत्र अंबाला में कांग्रेस इस बार डॉ. कपूर सिंह पर राजनीतिक दांव खेलने की तैयारी कर रही है, जिसे ध्यान में रखते हुए डॉ. कपूर सिंह ने अपनी राजनीतिक सक्रियता बढ़ा दी है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कांग्रेस संगठन को मजबूती देने में डॉ. कपूर सिंह बढ़चढ़कर भागीदारी कर रहे है। डॉ. कपूर सिंह इससे पूर्व अंबाला संसदीय क्षेत्र से राजनीतिक भाग्य अजमा वुके है और उनकी पूरे संसदीय क्षेत्र में प्रभावी पहचान है। अंबाला संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर चुकी सुश्री शैलजा का तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा से छत्तीस का आंकड़ा होने के कारण कांग्रेसीजन दो घड़ो में बंट गए, जिसका खामियाजा 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को भुगतना पड़ा। सुश्री शैलजा को कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने उनकी योग्यता और राजनीतिक अनुभव देखते हुए राज्यसभा का सदस्य बना दिया। डॉ. कपूर सिंह के परिश्रम से संसदीय क्षेत्र के कांग्रेसीजन डॉ. अशोक तंवर के साथ देखे जाने लगे है। वर्तमान में अंबाला संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व भाजपा के रतनलाल कटारिया कर रहे है, जो अपनी विवादास्त कार्यप्रणाली के चलते मतदाताओं से दूर होते जा रहे है। सुश्री शैलजा पर की गई अभद्र टिप्पणी से एक विशेष वर्ग की कटारिया से नाराजगी रतनलाल कटारिया पर भारी पड़ सकती है। कांग्रेस यदि डॉ. कपूर सिंह पर दाव खेलती है, तो उसे बसपा के एक बड़े वर्ग का भी समर्थन मिल सकता है। सरकारी सेवा से महत्त्वपूर्ण पद त्यागकर राजनीति के माध्यम से जनसेवा के लिए राजनीति में उतरे डॉ. कपूर सिंह डॉ. बीआर अंबेडकर सभा हरियाणा की कमान संभाले हुए है। दिलचस्प तथ्य यह है कि डॉ. कपूर की सभी वर्गों में प्रभावी पकड़ हैै। तेजी से बढ़ा रहे कांग्रेसी परिवार को देखते हुए ऐसे आसार नजर आ रहे है कि वर्ष 2019 में अंबाला संसदीय क्षेत्र से डॉ. कपूर सिंह पर ही कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व विश्वास करके चुनावी समर में उतार सकता है।

No comments