नेतृत्व परिवर्तन में विफल रहने पर भूपेंद्र हुड्डा ने पकड़ी सत्ता परिवर्तन की डफली

Congress
सिरसा(प्रैसवार्ता)।  हरियाणवी कांग्रेस में इकलौते सांसद,  17 में से 13 विधायकों, करीब दो दर्जन पूर्व सांसदों, विधायकों व कांग्रेसी दिग्गजों के अतिरिक्त युवा कांग्रेस में बहुमत रखने वाले पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के लगभग अढ़ाई वर्षीय नेतृत्व परिवर्तन अभियान में विफल रहने उपरांत सत्ता परिवर्तन की डफली बजानी शुरू कर दी है। हरियाणा में समांतर कांग्रेस चला रहे भूपेंद्र हुड्डा के कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व पर मौजूदा प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर की प्रधानगी पर बदलाव के लिए निरंतर दवाब बनाए रखा, मगर कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने दवाब को कोई तव्वजों नहीं दी, क्योंकि शीर्ष नेतृत्व जानता है कि भूपेंद्र हुड्डा के पास नेताओं की फौज है, जबकि अशोक तंवर के पास कार्यकर्ताओं का भारी आंकड़ा है। राजनीति में कार्यकर्ताओं को ही रीढ़ की हड्डी कहा जाता है। अपने तीन वर्षीय प्रधानगी के कार्यकाल में अशोक तंवर ने पूरे प्रदेश में कांग्रेसीजनों को हरियाणवी कांग्रेस के मंच पर लाने में अहम् भूमिका निभाई है। हुड्डा से सत्ता परिवर्तन की डफली उठाकर भाजपाई सरकार के विरूद्ध मोर्चा खोल दिया है, जबकि इससे पूर्व भाजपाई शासन की ओर से भूपेंद्र हुड्डा शासनकाल में हुई घपलेबाजी की पिटारी खोली हुई है। भूपेंद्र हुड्डा पर कई संगीन फर्जीवाडे की जांच सीबीआई कर रही है,  वहीं कई मामलों की छानबीन राज्य चौकसी ब्यूरों के जांच आधीन है। गौरतलब है कि हरियाणा की भाजपा सरकार की ओर से भूपेंद्र हुड्डा के फर्जीवाडे व घपलेबाजी पर शिकंजा कसा जा रहा है। कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर, कांग्रेसी दिग्गज कैप्टन अजय सिंह यादव, सुश्री शैलजा, इनैलो नेता अभय सिंह चौटाला के तीखे बाण भूपेंद्र हुड्डा की बेचैनी बढ़ाए हुए है। प्रदेश का मौजूदा राजनैतिक चित्र दर्शाता है कि हरियाणा में सत्तापक्ष ही विपक्षीय भूमिका अदा कर रहा है। आपसी मतभेदों और बगावती स्वरों के बीच मुख्यमंत्री मनोहर लाल धडल्ले से सरकार चला रहे है, क्योंकि उन्हें शीर्ष नेतृत्व का आशीर्वाद हासिल है। कांग्रेस को आपसी कलह से फुर्सत नहीं, तो इनैलो की राजनीतिक नाव भी हिचकोले खा रही है। भूपेंद्र हुड्डा की सत्ता परिवर्तन मुहिम क्या रंग लायेगी, यह तो आने वाला समय ही बताएगा, जिन पर राजनीतिक पंडि़तों की नजरें लगी हुई है।

No comments