हुड्डा के संभावित यूटर्न से कांग्रेसी उत्साहित: भाजपाई बेचैन

सिरसा(प्रैसवार्ता)। वित्त मंत्री हरियाणा कैप्टन अभिमन्यु ने पूर्व सीएम हरियाणा भूपेंद्र सिंह हुड्डा को लेकर यह स्पष्ट कर देने, कि हुड्डा के लिए भाजपा में कोई जगह नहीं है, से हुड्डा के भाजपा में शामिल होने के क्यासों पर विराम लग गया है। भूपेंद्र सिंह हुड्डा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा केंद्रीय मंत्री राव इन्द्रजीत से मुलाकात उपरांत हरियाणवी राजनीति में क्यासों की बाढ़ आ गई थी। हुड्डा इस मुलाकात को शिष्टाचार बताते है, जबकि राजनीतिक पंडि़त इसे कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व पर एक दवाब के रूप में देखते है। कैप्टन अभिमन्यु की टिप्पणी उपरांत भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भाजपा के खिलाफ मोर्चा तेज करने की कवायद शुरू कर दी है। हुड्डा समर्थकों का भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर दवाब बनने लगा है कि भाजपा को राजनीतिक झटका देने के लिए कांग्रेस के  प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर से तालमेल बिठाया जाए। चर्चा तो यह भी है कि कुछ हुड्डा समर्थक कांग्रेसी दिग्गज अशोक तंवर से संपर्क बनाये हुए है। भूपेंद्र हुड्डा अपने तथा समर्थकों के राजनीतिक भविष्य के लिए अशोक तंवर से तालमेल को लेकर गहरा मंथन कर रहे है। हुड्डा का अब फोक्स अशोक तंवर की बजाए भाजपा पर केंद्रित हो गया है। अपने समर्थकों की बदल रही सोच को लेकर भूपेंद्र सिंह हुड्डा काफी चिंतित है। यू टर्न पर बारीकी से विचार विमर्श करने में व्यस्त देखे जाने लगे है। इनैलो की भिवानी रैली में सोनीपत, रोहतक, झज्जर और भिवानी में एक विशेष वर्ग की प्रभावी उपस्थिति भूपेंद्र सिंह हुड्डा के लिए राजनीतिक खतरे का अलार्म है। इन चारो जिलों में इनैलो की सेंधमारी भूपेंद्र सिंह हुड्डा की उम्मीदों पर ग्रहण लगा सकती है। अपने सभी राजनीतिक प्रयासों में विफल रहने के बाद समर्थकों  के दवाब के चलते भूपेंद्र सिंह हुड्डा और अशोक तंवर में तालमेल की तैयारी शुरू हो चुकी है। भूपेंद्र सिंह हुड्डा समर्थकों का एक बड़ा वर्ग कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व द्वारा हरियाणवी कांग्रेस को दिए गए प्रदेशाध्यक्ष का नेतृत्व स्वीकार करने के पक्ष में है, जबकि कुछ हुड्डा समर्थक अलग से राजनीतिक दुकान खोलने की वकालत कर रहे है। हरियाणवी राजनीति की तस्वीर दर्शाती है कि भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोलने के लिए भूपेंद्र सिंह हुड्डा को यूटर्न होकर तंवर का नेतृत्व स्वीकार करना फायदेमंद साबित हो सकता है। हुड्डा के संभावित यूटर्न से भाजपा चिंतित है, क्योंकि हुड्डा का यूटर्न भाजपाई उम्मीदों पर पानी फेर सकता है।

No comments