सिरसा(मनमोहित ग्रोवर) । हरियाणा कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर की जिला सिरसा में निकाली गई साईकिल यात्रा एक तीर से कई निशाने कर ...

डॉ. अशोक तंवर की साईकिल यात्रा, एक तीर से हुए कई निशान, हुड्डा के कुनबे में बिखराव शुरू

सिरसा(मनमोहित ग्रोवर)। हरियाणा कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर की जिला सिरसा में निकाली गई साईकिल यात्रा एक तीर से कई निशाने कर गई है। साईकिल यात्रा के दूसरे चरण के समापन पर अनाज मंडी सिरसा में भव्य जनसभा हुई और जनसभा में उमड़ी भीड़ ने डॉ. तंवर व उनकी फौज को उत्साहित किया। राजसी दिग्गजों की नर्सरी चौटाला से शुरू हुई यह साईकिल यात्रा में लोगों का कांग्रेसी संघर्ष को लेकर ध्यान आकर्षित हुआ है तो दूसरी तरफ प्रदेश में समांतर कांग्रेस चला रहे पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के दो करीबी विकट रणजीत सिंह व पंडित होशियारी लाल शर्मा को डॉ. अशोक तंवर ने झटक कर हुड्डा खेमा में बिखराव की शुरूआत कर दी है। संसदीय क्षेत्र सिरसा से सांसद रहे डॉ. तंवर की इस साईकिल यात्रा को मिले भारी उत्साहजनक समर्थन सेे संसदीय क्षेत्र सिरसा का राजनीतिक गणित गड़बड़ा गया है। इस साईकिल यात्रा को सफल बनाने के लिए कांग्रेसी दिग्गजों ने भी कड़ा परिश्रम किया है। पूर्व सांसद रणजीत सिंह, युवा कांग्रेस विशाल वर्मा, कांग्रेस के प्रदेश महासचिव नवीन केडिया, शीशपाल केहरवाला, कुलदीप गदराना, रमेश भादू इत्यादि के अनथक प्रयासों से 50 डिग्री के तापमान में सर्वाधिक लोगों की साईकिल यात्रा में भागीदारी ने सत्तारूढ़ भाजपा और राज्य के प्रमुख विपक्षी दल इनैलो को सकते में ला दिया है। डॉ. तंवर ने साईकिल यात्रा के माध्यम से मतदाताओं के साथ-साथ अपने वफादारों व चमचागिरी करने वालों की पहचान भी जुटा ली है। जिला के डबवाली,, कालांवाली, सिरसा, रानियां, ऐलनाबाद विधानसभाई क्षेत्रों में किस राजसी दिग्गज की क्या भूमिका रही है, पर भी डॉ. तंवर का फोक्स रहा है। डॉ. तंवर की इस साईकिल यात्रा से कांग्रेसी जनाधार में बढ़ौतरी हुई है, ऐसा माना जा रहा है, मगर हुड्डा खेमा में सेंधमारी का फायदा पूरे प्रदेश में डॉ. तंवर को मिल सकता है। प्रदेशस्तरीय साईकिल यात्रा से डॉ. तंवर कांग्रेस के उन चेहरों की तलाश रहे है, जो पार्टी के प्रति पूर्णतया समर्पित हो और प्रभावी जनाधार रखते है। साईकिल यात्रा, जहां भाजपा व इनैलो की बेचैनी बढ़ाए हुए है, वहीं समांतर कांग्रेस में भी हलचल मनाए हुए है। डॉ. तंवर की इस साईकिल यात्रा से खुले तीसरे नेत्र की नज़रों में कई वफादारों का राजनीतिक कद जरूर बढ़ा है, जबकि खानापूर्ति करने वालों की तस्वीरें भी कैद हो गई है। इस साईकिल यात्रा की सफलता के साथ-साथ दिलचस्प तथ्य यह है कि साईकिल सवारों का उत्साह व जोश देखने योग्य था, जिसे कांग्रेस के लिए शुभ संकेत कहा जा सकता है।

0 comments: